Wednesday , October 18 2017
Home / India / वज़ीर-ए-आज़म की इत्तेहाद की ख़ाहिश

वज़ीर-ए-आज़म की इत्तेहाद की ख़ाहिश

नई दिल्ली, २३ नवंबर (पीटीआई) पार्लीमेंट का सरमाई इजलास जारी है। वज़ीर-ए-आज़म डाक्टर मनमोहन सिंह ने आज दोनों ऐवानों में अपने साथीयों से ख़ाहिश की कि वो मसाइल की यकसूई और मुल्क को दरपेश चैलेंज्स का सामना करने के लिए मुत्तहिद हो जाएं।

नई दिल्ली, २३ नवंबर (पीटीआई) पार्लीमेंट का सरमाई इजलास जारी है। वज़ीर-ए-आज़म डाक्टर मनमोहन सिंह ने आज दोनों ऐवानों में अपने साथीयों से ख़ाहिश की कि वो मसाइल की यकसूई और मुल्क को दरपेश चैलेंज्स का सामना करने के लिए मुत्तहिद हो जाएं।

रीटेल शोबा में एफडी आई की पुरज़ोर मुख़ालिफ़त और तहरीक ए अदम एतिमाद की धमकी के पस-ए-मंज़र में वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह ने अपोज़ीशन को उसकी ज़िम्मेदारीयों को एहसास दिलाया कि उन्हें पारलीमानी डेमोक्रेसी के मुल्क को दरपेश नाक़ाबिल बयान चैलेंजों का सामना करने के लिए अरकान-ए-पार्लीमेंट को मुत्तहिद हो जाना चाहीए।

उन्होंने कहा कि पार्लीमेंट के सामने क़ानूनसाज़ी का एक भारी एजंडा सरमाई इजलास के लिए मौजूद है। उन्होंने कहा कि वो ऐवान के अपने तमाम साथीयों से तआवुन के ख़ाहां हैं और चाहते हैं कि वो सब मुत्तहिद होकर मसाइल ( समस्याओं) की यकसूई करें और मुल्क को दरपेश चैलेंजों का सामना करें।

वज़ीर-ए-आज़म ने कहा कि हुकूमत पार्लीमेंट के दोनों ऐवानों में तमाम मसाइल पर बहस के लिए आमादा है। उन्होंने कहा कि बरसर-ए-इक़तिदार पार्टी के इलावा अपोज़ीशन पार्टी पर भी ज़िम्मेदारीयां हैं कि वो पारलीमानी जमहूरीयत को काम करने का मौक़ा फ़राहम करें जिस पर हमें बजा तौर पर फ़ख़र है।

मुल्क को ज़बरदस्त चैलेंजों का सामना होने का इद्दिआ करते हुए वज़ीर-ए-आज़म ने कहा कि मआशी महाज़ पर आलमी मआशी बोहरान की वजह से हमारे मुल्क को भी कई चैलेंजों का सामना है। हमें वसीअ ( बड़े) पैमाने पर मुलाज़मतों के मौक़े फ़राहम करना है।

नौजवानों को फ़ायदाबख्श मुलाज़मतें फ़राहम करना है। इनफ़रास्ट्रक्चर और समाजी ख़िदमात जैसे सेहत और तालीमात के शोबों में सरमायाकारी में इज़ाफ़ा करना है ताकि मआशी फ़रोग़ की रफ़्तार तेज़ की जा सके। वज़ीर-ए-आज़म ने कहा कि हुकूमत इन मुहिम्मात ( मुहिमो) को कामयाबी से सर करने की पाबंद है लेकिन इस कामयाबी के लिए सियासत के तमाम गोशों को इजतिमाई तौर पर हुकूमत का साथ देना होगा।

TOPPOPULARRECENT