Sunday , October 22 2017
Home / Hyderabad News / शंकर राव को काबीना से हटाने का इमकान!

शंकर राव को काबीना से हटाने का इमकान!

हैदराबाद 19 जनवरी (सियासत न्यूज़) रियास्ती वज़ीर छोटी आबपाशी मिस्टर टी जी वेंकटेश ने कहा कि रियास्ती काबीना में बड़े पैमाने पर तबदीलीयों के इमकानात नहीं हैं। डाक्टर शंकर राव को काबीना से बेदख़ल किया जा सकता है। प्रजा राज्यम के अर

हैदराबाद 19 जनवरी (सियासत न्यूज़) रियास्ती वज़ीर छोटी आबपाशी मिस्टर टी जी वेंकटेश ने कहा कि रियास्ती काबीना में बड़े पैमाने पर तबदीलीयों के इमकानात नहीं हैं। डाक्टर शंकर राव को काबीना से बेदख़ल किया जा सकता है। प्रजा राज्यम के अरकान असम्बली को शामिल करने के इलावा जो वज़ारतें मख्लुआ हैं, उन पर नए वुज़रा का तक़र्रुर होगा। साथ ही वुज़रा के क़लमदानों की तबदीली के भी इमकानात कम हैं।

दिल्ली में मीडीया से बातचीत करते हुए मिस्टर टी जी वेंकटेश ने कहा कि सोनीया गांधी और चीफ़ मिनिस्टर के बंद कमरे में बातचीत की है, वज़ारत में तौसीअ और रद्दोबदल के ताल्लुक़ से जिस तरह मीडीया वाले अंदाज़ा लगा रहे हैं, इसी तरह वुज़रा भी अंदाज़े क़ायम कर रहे हैं। उन्हों ने कहा कि रद्दोबदल और तौसीअ कोई बड़ा काम नहीं बल्कि एक रिवायती काम है। किन वुज़रा को काबीना से अलहदा किया जाएगा? के सवाल का जवाब देते हुए टी जी वेंकटेश ने कहा कि सुबह-ओ-शाम हुकूमत और साथी वुज़रा के ख़िलाफ़ बयानबाज़ी करने वाले डाक्टर शंकर राव को काबीना से अलहदा करने का इमकान है। तेलंगाना के दो वुज़रा के मुस्ताफ़ी होने के सबब दो वज़ारतें मख्लुआ हैं, इन वज़ारतों पर नए वुज़रा का तक़र्रुर होगा।

साथ ही प्रजा राज्यम, कांग्रेस में ज़म हुई है, इस लिए इस के अरकान के साथ इंसाफ़ ज़रूरी है। चिरंजीवी जो भी नाम पेश करेंगे, उन्हें वज़ारत में शामिल किया जाएगा।वज़ारत बर्क़ी के इलावा दीगर मख्लुआ वज़ारतों के ताल्लुक़ से पूछे गए सवाल का जवाब देते हुए उन्हों ने कहा कि ये वज़ारतें उन की नज़र में अवामी ख़िदमात अंजाम देने वाली नहीं हैं। चंद वुज़रा के क़लमदानों की तबदीली के बारे में उन्हों ने बताया कि वो नहीं समझते कि क़लमदानों में बड़े पैमाने पर तबदीली लाई जाएगी।

चंद सीनियर वुज़रा के क़लमदान तबदील हो सकते हैं और कारकर्दगी की बुनियाद पर भी तबदीली लाई जा सकती है। पोलावरम पराजकट के कोंट्टरएक्टर की आज़ाद से मुलाक़ात पर पूछे गए सवाल कि क्या कांग्रेस टी आर एस को एतिमाद में लेकर काम कर रही है? का जवाब देते हुए उन्हों ने कहा कि टी आर ऐस कोई बड़ी जमात नहीं है, इस को अपने रोशन मुस्तक़बिल के लिए कांग्रेस में ज़म होना पड़ेगा या अपने वजूद को बरक़रार रखने के लिए कांग्रेस ज़िंदाबाद का नारा लगाते हुए कांग्रेस के साथ सयासी इत्तिहाद करना पड़ेगा।

कांग्रेस पार्टी में बढ़ती ग्रुप बंदीयों के बारे में पूछे गए सवाल का जवाब देते हुए मिस्टर टी जी वेंकटेश ने कहा कि ऐसी कोई ग्रुप बंदी नहीं है और ना ही कोई इतना ताक़तवर है कि हुकूमत का तख़्ता उलट सके। हुकूमत को ब्लैक मेल करने वालों को कांग्रेस हाईकमान बर्दाश्त नहीं करेगी।

TOPPOPULARRECENT