Saturday , October 21 2017
Home / Khaas Khabar / शक्ति मिल गैंगरेप: तीनों मुल्ज़िमों को फांसी

शक्ति मिल गैंगरेप: तीनों मुल्ज़िमों को फांसी

मुंबई के शक्ति मिल ( खातून सहाफी फोटो ग्राफर) गैंगरेप केस में जुमे के रोज़ मुंबई की एक सेशन अदालत ने तीनों मुल्ज़िमों को मौत की सजा सुनाई है। ये मुल्क का पहला केस है जिसमें दिल्ली के निर्भया गैंगरेप केस के बाद में बने नए कानून (Anti-rape) के त

मुंबई के शक्ति मिल ( खातून सहाफी फोटो ग्राफर) गैंगरेप केस में जुमे के रोज़ मुंबई की एक सेशन अदालत ने तीनों मुल्ज़िमों को मौत की सजा सुनाई है। ये मुल्क का पहला केस है जिसमें दिल्ली के निर्भया गैंगरेप केस के बाद में बने नए कानून (Anti-rape) के तहत विजय जाधव, मोहम्मद कासिम शेख व मोहम्मद अंसारी को फांसी की सजा दी गई है।चौथे मुजरिम को उम्रकैद की सजा सुनाई गई है।

अदालत ने जुमेरात के रोज़ तीनों मुजरिमों को गुनाहगार ठहराया था। कोर्ट ने पहली बार दफा 376 (ई) के तहत किसी को गुनाहगार करार दिया। पिछले ही दिनों तीनों को शक्ति मिल के अहाते में ही एक टेलीफोन ऑपरेटर के साथ गैंगरेप में उम्रकैद की सजा सुनाई जा चुकी है।

आपको याद हो कि गुजश्ता साल 22 अगस्त को एक फोटो जर्नलिस्ट अपने पेशेवराना काम के सिलसिले में अपने एक खाथी के साथ शक्ति मिल के आह्ते आई थी।

वहां इन तीनों ने (विजय जाधव, मोहम्मद कासिम शेख , मोहम्मद अंसारी के साथ सिराज और एक नाबालिग लड़के ने मिलकर खातून के साथ गैंगरेप किया था। खातून फोटोग्राफर के साथ हुए गैंग रेप केस में पीर के रोज़ हुई सुनवाई में प्रासीक्यूटर ने तीन मुल्ज़िमो के खिलाफ आईपीसी की दफा 376-ई जोडने की गुजारिश किए थे जिसे अदालत ने कुबूल कर लिया था।

दफा 376-ई रेप की वारदात के दोहराने पर लगाई जाती है जिसका बंदोबस्त साल 2013 में तरमीमी कानून में किया गया था। इस दफा के तहत मुजरिमों को दुबारा जुर्म करने करने पर प्रासीक्यूटर मौत की सजा की गुजारिश भी कर सकता है।

अंग्रेजी मैगजीन में इंटर्नशिप कर रही 22 साल की लड़की 22 अगस्त 2013 को जब जुमेरात की शाम तकरीबन 6 से 6.30 बजे के बीच अपने दोस्त के साथ शक्ति मिल में फोटोशूट के लिए गई थी, तभी उसके साथ पांच दरिंदों ने गैंगरेप किया।

लड़की के बयान की बुनियाद पर एनएम जोशी मार्ग पुलिस स्टेशन में गैंगरेप का मामला दर्ज किया गया। पुलिस ने लड़की के दोस्त का बयान भी दर्ज किया।

इस शर्मनाक वाकिया के बाद मुंबई पुलिस फौरन हरकत में आई और जांच शुरू कर दी। पुलिस इस मामले की जांच के लिए 20 टीम बनाई। पुलिस के बड़े आफीसर ज़ाए वाकिया महालक्ष्मी इलाके में वाकेय् शक्ति मिल्स के अहाते पहुंचे।

पुलिस ने गैंगरेप की मुतास्सिरा लड़की के बयान की बुनियाद पर 5 लोगों के स्केच जारी किए थे। मुंबई पुलिस ने केस को सुलझाने का दावा करते हुए कहा है कि उसने गैंगरेप में शामिल सभी मुल्ज़िमों की शनाख्त कर ली है। पुलिस का कहना था कि लड़की ने अपने बयान में बताया है कि ये लोग वारदात के वक्त आपस में इन नामों से बात कर रहे थे।

लड़की के दोस्त ने मुल्ज़िमों की पहचान की है। पुलिस ने एक मुल्ज़िम को गिरफ्तार कर लिया है।

TOPPOPULARRECENT