Wednesday , July 26 2017
Home / International / शरणार्थियों के साथ अमानवीय व्यवहार को लेकर यूरोपीय संघ ने की हंगरी की आलोचना

शरणार्थियों के साथ अमानवीय व्यवहार को लेकर यूरोपीय संघ ने की हंगरी की आलोचना

यूरोपीय संघ की मानवाधिकार परिषद ने शरणार्थियों के विरुद्ध हंगरी की तरफ से किए जाने वाले अमानवीय व्यवहार की आलोचना की है। इसके लिए परिषद ने एक विज्ञप्ति जारी की जिसमें उसने कहा है कि शरणार्थियों को गिरफ्तार करना और शरण की अपील करने वाले लोगों को हंगरी से बाहर निकाल देना अमानविय रवैया है।

यूरोपीय संघ की मानवाधिकार परिषद ने यह भी कहा है कि हंगरी में शरणार्थियों को गिरफ्तार करके बंद करना और उन्हें वकीलों मुहैया नहीं होने देना व्यक्तिगत आजादी का उल्लंघन करना है और वो उसकी भर्त्सना करता है।

बता दें कि हंगरी ने एक नया कानून बनाया है जिसके मुताबिक शरणार्थियों की अपील पर जब तक कार्यवाही नहीं की जाती तब तक उन्हें सीमावर्ती क्षेत्रों के कंटेनरों में रखा जाएगा। ठीक उसी प्रकार हर उस शरणार्थी की अपील को मान्यता नहीं मिलेगा जो बाहर से हंगरी में प्रवेश किया है। इसके अलावा नए कानून के अनुसार शरणार्थियों को गिरफ्तारी के दौरान होने वाले खर्चों का खुद वहन करना पड़ेगा।

गौरतलब है कि हंगरी यूरोपीय संघ का ऐसा देश है जो शरणार्थियों को स्वीकार करने का मुखर विरोधी रहा है। पिछले बुडापेस्ट की सरकार ने हंगरी में शरणार्थियों के प्रवेश के शरणार्थियों को रोकने के लिए अपने सीमा पर कांटेदार तारों की बाड़ लगा दी है।

हंगरी की सरकार का कहना है कि शरणार्थी संकट यूरोपीय संघ के लिए सबसे बड़ा संकट है। हंगरी का दावा है कि शरणार्थियों के प्रवेश से असुरक्षा, जातीय और कौमी संबंध खराब होंगे। उसका कहना है कि शरणार्थियों के आने के देश में रोज़गार के अवसर के कम होंगे।

TOPPOPULARRECENT