Friday , March 24 2017
Home / Khaas Khabar / शशिकला के लोगों ने मुझे मुख्यमंत्री पद छोड़ने को मजबूर किया: पन्नीरसेल्वम

शशिकला के लोगों ने मुझे मुख्यमंत्री पद छोड़ने को मजबूर किया: पन्नीरसेल्वम

चेन्नई: शशिकला के शपथ ग्रहण पर असमंजस बरकरार है। सोमवार को शशिकला ने ओ. पन्नीरसेल्वम के अन्नाद्रमुक को कोषाध्यक्ष पद से हटा दिया। इसके बाद मंगलवार देर शाम पार्टी में हाई वोल्टेज ड्रामा शुरू हुआ और देर रात तक चलता रहा। इसके बाद पन्नीरसेल्वम ने शशिकला के खिलाफ बगावत कर दी।

पन्नीरसेल्वम ने आरोप लगाया कि रविवार को इस्तीफा देने के लिए उनको मजबूर किया गया था। उन्होंने कहा कि पार्टी कैडर और राज्य के लोगों की मांग पर वह इस्तीफा वापस भी ले सकते हैं। उधर, शशिकला के आवास पोएस गार्डेन (जयाललिता का पुराना घर) पर आपातकालीन बैठक हुई। इस बैठक में शशिकला ने पन्नीरसेल्वम को अन्नाद्रमुक के कोषाध्यक्ष पद से हटा दिया और उनकी जगह  डिंडीगुल श्रीनिवासन को नियक्त कर दिया।

हालांकि, अन्नाद्रमुक नेता और लोकसभा डिप्टी स्पीकर एम. थम्बीदुरई ने पन्नीरसेलवम के दबाव बनाकर मुख्यमंत्री पद से हठाने के आरोप को गलत बताया है। थम्बीदुरई ने कहा कि पार्टी प्रमुख वी.के. शशिकला मुख्यमंत्री होंगी क्योंकि सभी विधायक उनके साथ हैं। सभी विधायक एकजुट हैं। उसके बाद उन्होंने पोएस गार्डेन आवास की तरफ इशारा करते हुए यह कहा, “सभी विधायक अंदर हैं।”

उधर, शशिकला ने देर रात अपने समर्थकों बैठक किया और कहा कि ऐसा लग रहा है कि पन्नीरसेल्वम किसी के इशारे पर काम कर रहे हैं। पार्टी में किसी तरह की कोई दिक्कत नहीं है। मैंने किसी काम के लिए पन्नीरसेल्वम पर दबाव नहीं बनाया। वो जो भी कह रहे हैं, वो गलत है। पार्टी के सभी विधायक एक है, हम एक परिवार की तरह हैं। उसके बाद शशिकला ने कहा कि जो भी पन्नीरसेल्वम ने कहा उसके पीछे डीएमके है।

वहीं पन्नीरसेल्वम ने शशिकला के खिलाफ बगावत करते हुए कहा कि जयललिता चाहती थीं कि अगर उन्हें कुछ हो जाए तो मैं मुख्यमंत्री बनूं। उन्होंने कहा कि अम्मा (जयललिता) के सपनों पूरा करने के लिए मैंने अपना सर्वश्रेष्ठ प्रयास किया। उसके बाद उन्होंने ने कहा, “ जो राज्य के हितों की रक्षा कर सकता है, उसे ही मुख्यमंत्री बनना चाहिए। यदि जनता चाहेगी तो वह तमिलनाडु सीएम के पद से अपना इस्तीफा वापस ले सकते हैं।”

इसके बाद पन्नीरसेल्वम मंगलवार रात जयललिता की समाधि पर गए। अकेले में कुछ देर तक ध्यान किया और करीब 40 मिनट तक उनके समाधि पर रहे। इसके बाद में उन्होंने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा, “आत्मा कचोट रही थी, इसलिए यहां आया। देश को और अपनी पार्टी के सदस्यों को कुछ सच्चाई बताना चाहता हूं।”

Top Stories

TOPPOPULARRECENT