Tuesday , October 17 2017
Home / Crime / शहर की फ़िज़ा को ख़राब करने शर पसंदों की कमांडो नुमा टोलियां

शहर की फ़िज़ा को ख़राब करने शर पसंदों की कमांडो नुमा टोलियां

फ़िर्का परस्त ताक़तों की जानिब से शहर की फ़िज़ा को मुतास्सिर करने और अक़लियत को निशाना बनाने की एक मुनज़्ज़म साज़िश और तफ़सीली हिक्मत-ए-अमली तय्यार करली गई है और शहर में हालिया अर्सा में पेश आए फ़िर्का वाराना तशद्दुद और कशीदगी

फ़िर्का परस्त ताक़तों की जानिब से शहर की फ़िज़ा को मुतास्सिर करने और अक़लियत को निशाना बनाने की एक मुनज़्ज़म साज़िश और तफ़सीली हिक्मत-ए-अमली तय्यार करली गई है और शहर में हालिया अर्सा में पेश आए फ़िर्का वाराना तशद्दुद और कशीदगी के वाक़ियात इसी हिक्मत-ए-अमली का नतीजा हैं। मालूम हुआ है कि फ़िर्का परस्त ताक़तों की जानिब से इस हिक्मत-ए-अमली के तहत शहर की फ़िज़ा को मुकद्दर करने के लिए कई टोलियां भी तशकील दी गई हैं

और उन टोलियों के ज़िम्मा मुनाफ़िरत फैलाने के अलग अलग काम सौंप दिए गए हैं । इंटेलिजेंस ज़राए ने बताया कि अब तक की तहक़ीक़ात में जांच एजैंसीयों को पता लगा है कि बुनियाद परस्त तंज़ीमों से ताल्लुक़ रखने वाले चंद नौजवानों ने एक मुनज़्ज़म साज़िश के तहत कमांडो नुमा टोलियां तशकील देते हुए शहर के हस्सास इलाक़ों में शर अंगेज़ी करने के बाद संगबारी और अक़लीयती तबक़ा के इम्लाक को नुक़्सान पहुंचाया है ।

ज़राए ने बताया कि अश्रार की टोलियां अपनी तवज्जा मोटर साईकलों को जलाना और मज़हबी मुक़ामात की बेहुर्मती और तक़द्दुस को पामाल करने पर की हुई है । बताया जाता है कि शहर में बड़ा फ़साद बरपा करने गुज़शता साल नवंबर से मंसूबा बंदी की जा रही थी जिस के तहत हिन्दू वाहिनी के अरकान ने ईद अज़हा के बाद शहर के मुख़्तलिफ़ मुक़ामात में अक़लीयती तबक़ा के अफ़राद पर क़ातिलाना हमले किए जबकि जारीया साल जनवरी से इलाक़ा मादन्ना पेट अक़लीयती तबक़े के मोटर साईकलों को सिलसिला वार नज़र-ए-आतिश किया जा रहा था

जिसे पुलिस ने संजीदा तौर पर नहीं लिया और इसी इलाक़ा से शहर में फ़साद फूट पड़ा ।बताया जाता है कि शर अंगेज़ी की एक मख़सूस वारदात अंजाम देने मोटर साईकल सवार दो रुकनी अश्रार टोली का इस्तिमाल किया जा रहा है और ये वारदात अंजाम देने के फ़ौरी बाद अश्रार की टोली मुक़ाम वारदात से ग़ायब हो रही है । पुलिस की जानिब से चंद अश्रार की निशानदेही करने और उन्हें हिरासत लेने के बाद ऐसे वाक़ियात मंज़र पर आए ।जिस के बाद पुलिस ने रात के औक़ात मोटर साईकलों पर डबल सवारी पर इमतिना इद करदिया है ।

सिरी राम नौमी और हनूमान जयंती से ऐन कब्ल फेसबुक के ज़रीया काबा शरीफ़ की बेहुर्मती की गई । ज़राए ने बताया कि हनूमान जयंती के मौक़ा पर प्रवीण तो गाड़िया को मदऊ करने के पसेपर्दा ये मक़सद था कि हिन्दू नौजवानों की अक़लीयतों के ख़िलाफ़ ज़हन साज़ी की जा सके

और बाद अज़ां उन को शर अंगेज़ी के लिए इस्तिमाल किया जा सके । इंटेलिजेंस एजैंसीयों का ये तास्सुर है कि गुज़शता साल नवंबर से अब तक पेश आए वाक़ियात में पुलिस ने संजीदगी का मुज़ाहरा नहीं किया जिस के सबब फ़िरका परस्त ताक़तों के हौसले बुलंद होगए ।

TOPPOPULARRECENT