Monday , October 23 2017
Home / Islami Duniya / शाम के ख़िलाफ़ क़रारदाद को रूस-और-चीन का वीटो

शाम के ख़िलाफ़ क़रारदाद को रूस-और-चीन का वीटो

चीन और रूस ने अक़वाम-ए-मुत्तहिदा सिक्युरिटी कौंसल की एक क़रारदाद के ख़िलाफ़ हक़ तंसीख़ ( वीटो ) इस्तिमाल किया है जिस के ज़रीया शाम के मसाइला को बैन-उल-अक़वामी जराइम अदालत से रुजू करने की बात कही गई थी।

चीन और रूस ने अक़वाम-ए-मुत्तहिदा सिक्युरिटी कौंसल की एक क़रारदाद के ख़िलाफ़ हक़ तंसीख़ ( वीटो ) इस्तिमाल किया है जिस के ज़रीया शाम के मसाइला को बैन-उल-अक़वामी जराइम अदालत से रुजू करने की बात कही गई थी।

क़रारदाद में कहा गया था कि शाम में गुज़शता तीन साल से जारी ख़ानाजंगी में दोनों ही फ़रीक़ैन हुकूमत और अप्पोज़ीशन ने जंगी जराइम का इर्तिकाब किया है । मग़रिबी ताक़तों ने एक क़रारदाद मंज़ूर करने पर ज़ोर दिया था क्योंकि कहा जा रहा है कि शाम में मज़ालिम में इज़ाफ़ा होगया है और वहां कीमियावी हथियारों से भी हमले किए जा रहे हैं।

मुख़ालिफ़ीन को मुनज़्ज़म अंदाज़ में अज़ीयतें दी जा रही हैं। बयारील बम बरसाए जा रहे हैं और वहां पहूंचने वाली इमदाद को रुकवाया जारहा है । ये चौथी मर्तबा है जब चीन और रूस की जानिब से मग़रिबी ताक़तों को इस तनाज़ा के ताल्लुक़ से किसी क़रारदाद की मंज़ूरी से रोका गया है।

चीन और रूस की कोशिशों के नतीजा में अक़वाम-ए-मुत्तहिदा सलामती कौंसल की जानिबसे शाम में जारी ख़ानाजंगी को रोकने की कोशिशों में रुकावटों का सामना करना पड़ रहा है । मग़रिबी ममालिक और हक़ूक़-ए-इंसानी तंज़ीमों का इल्ज़ाम है कि शाम में अब तक तीन साल की ख़ानाजंगी के दौरान 1,60,000 अफ़राद हलाकहोगए हैं।

अक़वाम-ए-मुत्तहिदा सलामती कौंसल के 13 अरकान ने मग़रिबी ताक़तों कीजानिब से पेश करदा क़रारदाद की हिमायत की गई थी जबकि चीन और रूस के हक़ तंसीख़ के इस्तिमाल पर तन्क़ीद की है । इन अरकान का कहना है कि चीन और रूस कीजानिब से ना सिर्फ़ शाम की हुकूमत को बचाया जा रहा है

TOPPOPULARRECENT