Thursday , September 21 2017
Home / Mumbai / शीना बोरा कांड :पीटर मुखर्जी की जमानत अर्जी पर CBI का मुखालफत :

शीना बोरा कांड :पीटर मुखर्जी की जमानत अर्जी पर CBI का मुखालफत :

images(8)

मुंबई: सीबीआई ने शीना बोरा हत्याकांड में मीडिया कारोबारी पीटर मुखर्जी की जमानत याचिका का इस बिना पर मुखालफत किया कि वह हत्या की साजिश का हिस्सा थे और अपने बेटे और शीना के मंगेतर राहुल से पीड़िता के गायब होने की खबर छिपाई.

सीबीआई ने पीटर की जमानत याचिका के जवाब में कहा, ‘‘पीटर मुख्य आरोपी और अपनी पत्नी इंद्राणी मुखर्जी से शीना की कत्ल (24 अप्रैल, 2012) के दिन से अगले दिन उसके शव के निपटारे तक रबिता में थे.’’ पीटर को पिछले साल नवंबर में गिरफ्तार किया गया था.

CBI ने कहा, वह भी साजिश का हिस्सा थे और अपने बेटे राहुल मुखर्जी से शीना की मौत के बारे में बातें को छिपाया था. CBI ने अदालत को यह भी इंफॉरम किया कि कुछ खास दस्तावेज जो मामले में पैसों का लेन-देन है उस से संबंधित जांच की जा रही है और जांच अब भी चल रही है.

खास सीबीआई जज एच एस महाजन ने पीटर की जमानत याचिका पर 30 जनवरी तक सुनवाई स्थगित कर दी.

इस बीच, इंद्राणी, उनके पहले पति संजीव खन्ना और उनके ड्राइवर श्यामवर राय को आज अदालत में पेश किया गया, जहां इंद्राणी की बेटी विधि, खन्ना के रिश्तेदार और भाई और पीटर के और भी रिश्तेदार वहां मौजूद थे.

सीबीआई के इंद्राणी के पहले पति संजीव खन्ना के तरफ से दायर जमानत आवेदन पर अपना जवाब 30 जनवरी को दाखिल करना है. यह आवेदन उन्होंने अपने वकील श्रेयांश मिठारे के जरिए दायर किया है.

अदालत ने सीबीआई को इंद्राणी के आवेदन पर भी जवाब दाखिल करने का ऑडर दिया है, जिसमें उन्होंने सरकारी जे जे अस्पताल से अपनी मेडिकल रिपोर्ट मांगी है.

इंद्राणी के पूर्व पति संजीव खन्ना की जमानत याचिका पर भी सीबीआई 30 जनवरी को जवाब दे सकती है. अदालत ने सीबीआई को निर्देश दिया कि इंद्राणी की इस याचिका पर भी जवाब दे जिसमें उसने सरकारी जे जे अस्पताल से अपना मेडिकल रिपोर्ट मांगा है.

अपने वकील कुशल मोर के जरिए से दायर जमानत याचिका में पीटर ने कहा है कि सीबीआई उसे गिरफ्तार करने के लिए कोई सबूत नहीं जुटा पाई है जबकि वह उसे 11 दिनों की हिरासत में रख चुकी है और उसका साइको एनालिसिस और पोलीग्राफ जांच भी करा चुकी है.

पीटर ने इन इल्जामो से भी इंकार किया है कि शीना के बारे में उसने अपने बेटे राहुल को गुमराह किया.

जमानत याचिका में यह भी कहा गया है कि पीटर 23 अप्रैल से 26 अप्रैल 2012 तक ब्रिटेन में विधि इंद्राणी और खन्ना की बेटी के साथ था. पीटर ने कहा कि उसके और इंद्राणी के बीच महज फोन कॉल से साजिश होने का पता नहीं चलता है।

TOPPOPULARRECENT