Monday , October 23 2017
Home / Crime / शेख़ मुस्तफउद्दीन क़त्ल केस

शेख़ मुस्तफउद्दीन क़त्ल केस

सिद्दीक़नगर में फ़ौजीयों के हाथों क़त्ल होने वाले कमसिन तालिब-ए-इल्म शेख़ मुस्तफुद्दीन क़त्ल केस की तहक़ीक़ात की रिपोर्ट को कमिशनर पुलिस हैदराबाद ने हाईकोर्ट में पेश क्या। अपनी रिपोर्ट में कमिशनर पुलिस ने बताया कि शेख़ मुस्तफ़ा क़त

सिद्दीक़नगर में फ़ौजीयों के हाथों क़त्ल होने वाले कमसिन तालिब-ए-इल्म शेख़ मुस्तफुद्दीन क़त्ल केस की तहक़ीक़ात की रिपोर्ट को कमिशनर पुलिस हैदराबाद ने हाईकोर्ट में पेश क्या। अपनी रिपोर्ट में कमिशनर पुलिस ने बताया कि शेख़ मुस्तफ़ा क़त्ल केस की तहक़ीक़ात मुख़्तलिफ़ छः ज़वाएवं से की जा रही हैं जिस में फ़ौजीयों की तरफ से बदफ़ेली और दुसरे शुबहात के तहत ख़ुसूसी तहक़ीक़ाती टीम छानबीन कररही है। हाईकोर्ट में दाख़िल की गई रिपोर्ट में बताया गया कि अब तक स्पेशल इन्वेस्टीगेशन टीम ने 70 फ़ौजीयों से पूछताछ की है जिन में 23 फ़ौजीयों को दफ़्तर डिप्टी कमिशनर पुलिस वेस्ट ज़ोन में तफ़तीश की गई थी जिन में लांस नाविक बी उपला राजू शक के दायरे में था चूँकि इस ने क़त्ल के वाक़िये के दिन मुक़ाम वारदात पर शराबनोशी की थी और तफ़तीश के दौरान पुलिस ओहदेदारों को मुख़्तलिफ़ बयानात दिए थे।

उपला राजू ने बादअज़ां राइफ़ल से गोली मार कर ख़ुदकुशी करली थी। अदालत को ये वाक़िफ़ करवाया गया कि मिल्ट्री में इस सिलसिले में स्पेशल कोर्ट आफ़ इन्क्वारी क़ायम किया है जिस में शेख़ मुस्तफ़ा क़त्ल की वजूहात और उपला राजू की ख़ुदकुशी की वजह जानने की कोशिश की जा रही है।

कमिशनर पुलिस ने अपनी रिपोर्ट में बताया कि इस केस में कोई चशमदीद गवाह मौजूद नहीं है सिर्फ़ तकनीकी शवाहिद के ज़रीये ख़ातियों का पता लगाने की कोशिश की जा रही है।

चीफ़ जस्टिस हाईकोर्ट जस्टिस कल्याण ज्योति सिंह गुप्ता और जस्टिस संजय कुमार पर मुश्तमिल बेंच ने महिकमा दिफ़ा को इस सिलसिले में अपना जवाब दाख़िल करने की हिदायत दी है। चूँकि यहां के एक मुक़ामी वकील एडवोकेट ग़ुलाम रब्बानी की तरफ से शेख़ मुस्तफ़ा क़त्ल केस के सिलसिले में दरख़ास्त मफ़ाद-ए-आम्मा दायर की गई थी जिस के तहत हाईकोर्ट ने मर्कज़ी हुकूमत को भी इस में फ़रीक़ बनाया।

TOPPOPULARRECENT