Saturday , August 19 2017
Home / test / संघ मिनिस्ट्री को उनके भाई की लाश देने से रसायनज्ञ का इनकार ‘नई मुद्रा नोट का क्या मांग

संघ मिनिस्ट्री को उनके भाई की लाश देने से रसायनज्ञ का इनकार ‘नई मुद्रा नोट का क्या मांग

मैंगलोर: संघ मिनिस्टर डीवीडी सदानंद गौड़ा मंगलवार को नोटों के तंसीख़ अभियान के ताजा शिकार बने जिन्हें कस्तूरी मणिपाल अस्पताल प्रशासन ने अस्पताल में ज़ेर इलाज थे उनके भाई के बाकी बिल चुकाने में पुराने मुद्रा नोट लेने से इनकार करते हुए इन के भाई की लाश सौंपने से भी इनकार कर दिया।

वज़ीर के भाई भास्कर गौड़ा जो गंभीर पीलिया रोग में म्बतला थे का पिछले दस दिनों से यहां पर इलाज किया जा रहा था दोरान इलाज मंगलवार को अस्पताल में ही वह मर गए।

संघ मिनिस्टर परिवार और दोस्तों के साथ अपने भाई की लाश पाने के लिये दवाख़ाना पहुंचे और उन्होंने परमानंद चुकाने के लिए साठ हजार रुपये 500 और 1000 रुपये के रूप में दिए तो प्रशासन ने रद्द सत्यापित मुद्रा नोट लेने से इनकार कर दिया।

जब अस्पताल प्रशासन ने लापरवाही से इनकार किया तो यूनियन मिनिस्टर ने केंद्र सरकार के निर्देश का हवाला दया जस में 24 नवंबर तक अस्पतालों के बिल चुकाने में पुराने मुद्रा नोट स्वीकार करने की बात कही गई है जो वर्तमान में बेमानी है।

उन्होंने अस्पताल प्रशासन पुराने मुद्रा नोट लेने के लेखन में लिख कर देने को कहा अस्पताल प्रशासन के रवैये से नाराज मंत्री ने कहा कि जांच के आदेश जारी किए जाएंगे।उन्होंने कहा कि ” केंद्र सरकार ने सभी अस्पतालों को वाज़ह तौर पर निर्देश दिया है कि 24 नवंबर तक पुराने मुद्रा नोट अस्पतालों में कारगद रहेंगे। अगर अस्पताल पुराने नोटों को स्वीकार नहीं करेगा तो मरीजों को काफ़ी परेशानी का सामना करना पड़ेगा। अस्पताल का इकदाम गलत है। ”

TOPPOPULARRECENT