Wednesday , September 27 2017
Home / Delhi News / संसदीय समिति के समक्ष दुसरी बार पेश हुए RBI गवर्नर, 500-1000 के पुराने नोटों का नहीं दे पाए ब्योरा

संसदीय समिति के समक्ष दुसरी बार पेश हुए RBI गवर्नर, 500-1000 के पुराने नोटों का नहीं दे पाए ब्योरा

नई दिल्ली। रिजर्व बैंक के गवर्नर उर्जित पटेल संसदीय समिति के सामने बुधवार को दूसरी बार पेश हुए. ऐसा समझा जाता है कि उन्होंने समिति के समक्ष कहा कि जमा किये गये प्रतिबंधित 500 आैर 1000 रुपये पुराने नोटों की गिनती का काम अभी जारी है। इसीलिए वह नोटबंदी के बाद जमा के रूप में वापस आयी राशि के बारे में बताने की स्थिति में नहीं हैं।

वित्त पर संसद की स्थायी समिति की तीन घंटे से अधिक चली बैठक में रिजर्व बैंक गवर्नर से कई सवाल पूछे गये, लेकिन कई सदस्यों ने कहा कि केंद्रीय बैंक प्रमुख ने इस बारे में कोई स्पष्ट संख्या नहीं बतायी कि आठ नवंबर को नोटबंदी के बाद कितनी धनराशि बैंकों में आयी। समिति के अध्यक्ष कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एम वीरप्पा मोइली हैं।

बैंकों में पुराने नोटों की कुल राशि के बारे में पूछे जाने पर आरबीआई गवर्नर ने कहा कि नोटों की गिनती अब भी जारी है। इस पर समिति के कई सदस्यों ने असंतोष जताया।

मोइली ने कहा कि समिति नोटबंदी को लेकर अपनी रिपोर्ट संसद के माॅनसून सत्र में पेश करेगी और नोटबंदी के मुद्दे पर रिजर्व बैंक के गवर्नर को अब और नहीं बुलाया जायेगा। समिति 17 जुलाई से शुरू होने वाले संसद के माॅनसून सत्र के दौरान नोटबंदी पर अपनी रिपोर्ट पेश करेगी। सत्र 11 अगस्त को संपन्न होगा।

मोइली ने कहा कि हमारी नोटबंदी और विभिन्न अन्य मुद्दों पर विस्तार से चर्चा हुई। समिति नोटबंदी के मुद्दे पर रिजर्व बैंक के गवर्नर को अब और नहीं बुलायेगी।

आठ नवंबर को 500 और 1,000 रुपये के नोट को चलन से हटाये जाने से समिति के समक्ष पटेल बुधवार को दूसरी बार पेश हुए। सरकार के नोटबंदी के निर्णय को विपक्ष की काफी आलोचनाओं का सामना करना पड़ा।

इससे पहले, जनवरी में भी आरबीआई गवर्नर समिति के समक्ष उपस्थित हुए थे। उस समय उन्होंने समिति के सदस्यों से कहा था कि वह नोटबंदी के बाद बैंकों में जमा राशि के बारे में एक बयान सौंपेगे। पटेल के साथ आरबीआई के डिप्टी गवर्नर एसएस मूंदड़ा भी बैठक में मौजूद थे।

TOPPOPULARRECENT