Saturday , September 23 2017
Home / Delhi / Mumbai / संसद में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ नारे बाजी

संसद में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ नारे बाजी

नई दिल्ली: संसद में आज लगातार बारहवें दिन भी कोई कार्रवाई अंजाम नहीं दी जा सकी जबकि संसद के बाहर बयान देने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से माफी की मांग करते हुए विपक्ष ने सदन की कार्यवाही को उलझा दिया। हालांकि लोकसभा और राज्यसभा में तृणमूल कांग्रेस ने जिस के समर्थन में कांग्रेस, बसपा और देर विपक्षी दल उठ खडे हो गए। पश्चिम बंगाल में टोल प्लाजा पर सेना तय करने पर सरकार को आलोचना का निशाना बनाया।

उन्होंने विरोध किया लेकिन सरकार ने इसे सामान्य कार्रवाई करार और सेना को राजनीति में घसीट पर विपक्षी दलों के खिलाफ आलोचना करते हुए कहा कि यह उनकी राजनीतिक निराशा की अभिव्यक्ति है। राज्यसभा में जब यह मुद्दा उठाया गया तो अध्यक्ष हामिद अंसारी ने इंटरवल सवालों को शुरू कर दिया लेकिन कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस, सपा और बसपा सदस्यों ने नारे बुलंद करते हुए बाधित कर दिया और यह मांग की कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सदन में आकर क्षमा मागें।

हामिद अंसारी ने सदस्यों से कहा कि सदन में अनुशासन बनाए रखें और अन्य सदस्यों के हक को छीना न करें और अंतराल प्रश्न शुरू करने में सहयोग किया। हालांकि विरोध पर सदस्यों ने नारे बुलंद किए ” प्रधानमंत्री माफी मांगो ” ” रोना धोना बंद करो ” ” प्रधानमंत्री हाउज़ में आओ। ‘ इस बीच विपक्ष का जवाब देने के लिए भाजपा सदस्य भी खड़े हो गए और जय जवान।

जय किसान का नारा लगाया जिस पर हामिद अंसारी ने कहा कि यह बेहद अनुचित है, क्यों न आप लोग सड़कों पर नारे लगाए, यह कोई चीखने चलाने की जगह नहीं है! अध्यक्ष ने सदन में व्यवस्था के लिए कार्रवाई को 3:30 बजे तक स्थगित कर दी दोबारा कार्यवाही शुरू होते ही विपक्षी सदस्यों फिर एक बार सदन के बीच में आ गए और कोलाहल करते हुए मोदी तेरी तानाशाही नहीं चलेगी ‘जैसे नारे बुलंद किए। गोकह भाजपा सदस्यों ने विपक्ष के जवाब में नारे लगाए लेकिन शोरगुल में सुनाई नहीं दिया। विपक्ष के लगातार विरोध और संघर्ष पर उप अध्यक्ष पी जे कोरियाई ने एक दिन के लिए कार्यवाही स्थगित कर दी।

TOPPOPULARRECENT