Wednesday , September 20 2017
Home / India / संसद सत्र: नोटबंदी के मुद्दे पर बीजेपी के ‘अपनों’ ने भी साथ छोड़ा

संसद सत्र: नोटबंदी के मुद्दे पर बीजेपी के ‘अपनों’ ने भी साथ छोड़ा

नई दिल्ली।नोटबंदी पर विपक्ष का विरोध झेल रही मोदी सरकार को शिवसेना की नाराजगी का भी सामना करना पड़ रहा है। शिवसेना मौजूदा सरकार का हिस्सा है। एनडीए का अहम दल। एनडीए के सहयोगी दलों में शिवसेना इकलौती ऐसी पार्टी है जिसने नोटबंदी के मसले पर सरकार का खुल कर विरोध किया। इतना ही नहीं,बुधवार को नोटबंदी के विरोध में राष्ट्रपति भवन तक विपक्ष के साथ मार्च करेंगी।

नोटबंदी के खिलाफ आज ममता बर्नजी के अगुवाई में विपक्ष राष्ट्रपति भवन तक मार्च करेगी जिसमें शिवसेना भी शामिल होगी। शिवसेना के प्रवक्ता अरविंद सावंत ने इस की पुष्टि कर दी है।

ममता ने नई दिल्ली रवाना होने से पहले कोलकाता में हवाई अड्डे पर संवाददाताओं से कहा था कि ‘मैं नोटबंदी के मुद्दे पर राष्ट्रपति से मिलूंगी. मैं अपने 40 सांसदों के साथ उनसे मिलने जाऊंगी. मैंने विभिन्न राजनीतिक दलों से बात की है। अगर वे मेरे साथ चलना चाहते हैं, तो अच्छी बात है। अगर नहीं तो मैं अपने सांसदों के साथ ही जाऊंगी। नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला मेरे साथ आ सकते हैं।

इस मुद्दे पर राष्ट्रपति से मुलाकात को थोड़ा जल्दबाजी बताने वाले कुछ राजनीतिक दलों के बयानों के बारे में पूछे जाने पर ममता ने कहा, ‘यह उनकी मर्जी है। रोगी की मौत से पहले आपको डॉक्टर को दिखाना होता है। रोगी के मर जाने के बाद डॉक्टर को बुलाने का कोई मतलब नहीं है। आपको अभी राष्ट्रपति से मिलना जरूरी है। मैं चाहती हूं कि सभी राजनीतिक दल राष्ट्रपति से मुलाकात करें।

TOPPOPULARRECENT