Thursday , October 19 2017
Home / Islami Duniya / सऊदी में मुक़ीम हिंदूस्तानी काग़ज़ात बाक़ायदा बनाएं या मुल्क छोड़ दें

सऊदी में मुक़ीम हिंदूस्तानी काग़ज़ात बाक़ायदा बनाएं या मुल्क छोड़ दें

दुबई, 8 मई: (पी टी आई) सऊदी अरबिया में सफ़ीर हिंद ने हिंदूस्तानियों से अपील की है कि वो हुकूमत सऊदी अरब की जानिब से दी गई तीन माह की मोहलत से इस्तिफ़ादा करते हुए अपने काग़ज़ात को बाक़ायदा बना लें या परोक़ार अंदाज़ में अपने वतन हिंदूस्तान वा

दुबई, 8 मई: (पी टी आई) सऊदी अरबिया में सफ़ीर हिंद ने हिंदूस्तानियों से अपील की है कि वो हुकूमत सऊदी अरब की जानिब से दी गई तीन माह की मोहलत से इस्तिफ़ादा करते हुए अपने काग़ज़ात को बाक़ायदा बना लें या परोक़ार अंदाज़ में अपने वतन हिंदूस्तान वापस हो जाएं।

सऊदी अरब की जानिब से नई लेबर पॉलीसी निताक़त (Nitaqat law ) के राइज किए जाने के बाद गैर मुक़ीम वर्कर्स को मुल्क छोड़ देने की हिदायत दी गई है। सफ़ीर हिंद बराए सऊदी अरब हामिद अली ने एक बयान जारी करते हुए कहा कि रियाद में हमारे सिफ़ारतख़ाना और जद्दा में हमारे क़ौंसलख़ाना की जानिब से सऊदी अरब में मुक़ीम अपने हिंदूस्तानी भाईयों की मदद करने के लिए बड़े पैमाना पर मुहिम शुरू की गई है ।

गैर मुक़ीम हिंदुस्तानियों को सऊदी अरब में रहने के लिए अपने काग़ज़ात बाक़ायदा बनाने की तरग़ीब दी जा रही है या परोक़ार अंदाज़ में अपने वतन वापसी का मश्वरा दिया जा रहा है । सफ़ीर हिंद ने कहा कि मैं तमाम हिंदुस्तानियों पर ज़ोर देता हूँ कि वो अपने मौक़िफ़ और इकामा को दुरुस्त कर लें।

हम एक बैरूनी सरज़मीन पर रह रहे हैं लिहाज़ा हमें इस मुल्क के क़वानीन का एहतेराम करना चाहीए और उनकी पाबंदी करनी चाहीए। उन्होंने सऊदी शाही हुकूमत से इज़हार-ए-तशक्कुर किया कि इस ने निताक़त प्रोग्राम से मुतास्सिर होने वाले वर्कर्स को अपना वीज़ा मौक़िफ़ दुरुस्त करने के लिए तीन माह की मोहलत फ़राहम की।

इसका इंसानियत पर मबनी इक़दाम क़ाबिल-ए-सताइश है। हमारी एमबेसी ( Embassy) की जानिब से सऊदी हुक्काम से रब्त पैदा किया जा रहा है और निताक़त पॉलीसी से मुतास्सिरा अफ़राद की इंसानी बुनियादों पर मदद की दरख़ास्त की गई है। वज़ारत लेबर और हिंदूस्तानी सिफ़ारत ख़ाना के दरमियान हाल ही में इन तमाम मसाइल पर तबादला ख़्याल किया गया और एक जवाइंट ग्रुप भी तशकील की गयी है।

सऊदी अरब में तकरीबन दो मिलियन गैर मुक़ीम हिंदुस्तानी हैं जो हिंदुस्तानी क़ानूनी तौर पर सऊदी अरब पहुंचे हैं उन्हें अपना वीज़ा मौक़िफ़ बाक़ायदा बनाने की इजाज़त दी जाएगी ताकि वो अपना रोज़गार तलाश कर सकें।

TOPPOPULARRECENT