Wednesday , October 18 2017
Home / World / सऊदी लड़कियों को ख्वातीन की दोकानात में मुलाज़मत

सऊदी लड़कियों को ख्वातीन की दोकानात में मुलाज़मत

रियाज़ 13 अप्रैल : सऊदी अरब में ख़ातून शहरियों को रोज़गार दिलाने के लिए मुताल्लिक़ा अथॉरीटी हया की मुहिम में जोर‌ पैदा करदी गई है। हया के मालिक‌ शेख़ अब्दुल्लतीफ़ अल-शेख़ ने अथॉरीटी की तमाम शाख़ों को हिदायत की है कि सऊदी अरब की ख्वातीन के लिए नौकरी को यक़ीनी बनाया जाय और उन्हें मुलाज़मत फराहम‌ ना करने वाले इदारों को बंद कर दिया जाय।

बिलख़सूस ख्वातीन के पोशाक‌, ज़ेर जामा, इतर और बनाव‌ सिंघार की चीज बेचनेवाली दुक्कानात में सिर्फ़ सऊदी ख्वातीन को नौकरी देने का हुक्म दिया गया है। ऐसी दोकानात पर जहां सिर्फ़ ख़ातून गाहक पहूँचती हैं और सिर्फ़ उनही के इस्तिमाल की चीज‌ फ़रोख़त की जाती हैं।

वहां मर्दो को मुलाज़मत पर पाबंदी आइद करदी गई है लेकिन ऐसी दोकानात के मालकीन को ये हिदायत(चेतावनी) भी की गई है कि वो मुलाज़िम सऊदी ख्वातीन को तन्हा गूदामों या बंद आफिस‌ में जाने की इजाज़त ना दें। ख्तून मुलाज़मीन के लिए मुहज़्ज़ब लिबास और हिजाब इस्तिमाल करने की पाबंदी भी आइद की गई है।

इन एहकाम की ख़िलाफ़वरज़ी करने वाले मालकीय‌न दोकानात के ख़िलाफ़ कार्रवाई की जाएगी और दुक्कानात बंद भी की जा सकती हैं। क़दामत पसंद मुम्लकत सऊदी अरब में जहां सख़्त तरीन इस्लामी क़वानीन नाफ़िज़ हैं, हालिया अर्से के दौरान ख्वातीन को कई हुक़ूक़ दिए गए हैं।

मज्लिसे शूरा के लिए ये ख़ातून अरकान का तक़र्रुर किया गया। उन्हें वोट देने का हक़ दिया गया। अलावा अज़ीं तफ़रीही मुक़ामात पर मोटर सैक़ल चलाने की इजाज़त भी दी गई है। आफिस‌ और दुक्कानात में सऊदी ख्वातीन और लड़कियों को रोज़गार के ज़्यादा से ज़्यादा मौक़े फ़राहम किए जाने लगे हैं।

TOPPOPULARRECENT