Wednesday , September 27 2017
Home / Bihar News / सच बोलना बगावत है, तो मैंने बगावत की है : शत्रुघ्न सिन्हा

सच बोलना बगावत है, तो मैंने बगावत की है : शत्रुघ्न सिन्हा

नागपुर / पटना : भाजपा के सीनियर लीडर और पटना साहिब से एमपी शत्रुघ्न सिन्हा ने नागपुर में मीडिया से बातचीत में कहा है कि मुझे जो बोलना था वह मैंने बोल दिया, अब बड़े बुजुर्ग बोल रहे हैं, कर रहे हैं। कहा कि मैं भाजपा में था हूं और रहूंगा।

शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा कि क्या गुनाह किया है मैनें? कौन सी एंटी पार्टी एक्टिविटी की है? क्या मेरे अंदर सीनियरिटी मैचुअरिटी नहीं? साफ कहा कि अगर सच कहना बगावत है तो समझो हम भी बागी हैं। अगर मैंने कहा कि कीमतें बढ़ रही हैं उसे कंट्रोल करें। मैंने यह पार्टी और मुफाद में कहा है। अगर आप लोकल लोगों को अहमियत नहीं दे रहे हैं और जगह-जगह से लोगों को ला रहे हैं तो आप तो डिस्परेशन दिखा रहे हैं। शॉटगन ने कहा कि दिल्ली के इंतिख़ाब में क्या हुआ। लोग आते गये। हमारे वज़ीर भी आये और क्या रिज़ल्ट हुआ। कई लोग मुल्क को तोड़ने के लिए क्या-क्या बोल गये। कोई एक्शन नहीं लिया गया।

शत्रुघ्न सिन्हा अपनी शिकायत लेकर संघ हेड क्वार्टर नागपुर पहुंचे। लेकिन, संघ ने उनकी बात सुनने या उनसे मुलाकात करने में कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई। शत्रुघ्न सिन्हा जुमा को नागपुर पहुंचे थे, नागपुर में उन्हें न सिर्फ संघ की तरफ से बल्कि भाजपा के मुक़ामी लीडरों की तरफ से भी बेहद ठंडी रद्दो अमल मिली। शत्रुघ्न मोहन भागवत और सेक्रेटरी भैया जी जोशी से मिलने गये थे। हालांकि मोहन भागवत और भैया जी जोशी नागपुर से बाहर गये हुए हैं। संघ के किसी भी जूनियर अफसरों ने भी शत्रुघ्न सिन्हा से मिलने में दिलचस्पी नहीं दिखायी।

भाजपा लीडर शत्रुघ्न सिन्हा नागपुर से भाजपा एमपी नितिन गडकरी से मिलने की भी ख़्वाहिश जतायी। लेकिन ,नितिन गडकरी ने भी शत्रुघ्न सिन्हा से मिलने में दिलचस्पी नहीं दिखाई। गौरतलब है कि शत्रुघ्न सिन्हा पार्टी के उन बागी लीडरों में शामिल है जो खुलेआम पार्टी के आला कियादत की तनकीद करते है। बिहार इंतिख़ाब तशहीर के दौरान उनके बागी तेवर से पार्टी को मुसीबतों का सामना करना पड़ा।

 

TOPPOPULARRECENT