Thursday , October 19 2017
Home / Khaas Khabar / सदारती उम्मीदवार के लिए सयासी सरगर्मीयां तेज़

सदारती उम्मीदवार के लिए सयासी सरगर्मीयां तेज़

कांग्रेस ने आज कहा है कि आइन्दा सदर जम्हूरीया के ताल्लुक़ से पार्टी के पास हनूज़ कई रास्ते खुले हैं और इस ने ताहाल कोई क़तई फ़ैसला नहीं किया । जब कि ये तजवीज़ पेश की जा रही है कि राष्ट्रपति भवन में आइन्दा सदर कोई सयासी शख़्सियत नहीं होना च

कांग्रेस ने आज कहा है कि आइन्दा सदर जम्हूरीया के ताल्लुक़ से पार्टी के पास हनूज़ कई रास्ते खुले हैं और इस ने ताहाल कोई क़तई फ़ैसला नहीं किया । जब कि ये तजवीज़ पेश की जा रही है कि राष्ट्रपति भवन में आइन्दा सदर कोई सयासी शख़्सियत नहीं होना चाहीए ।

सदर जम्हूरीया प्रतिभा पाटिल की मीयाद चूँकि ख़तम होने वाली है इसलिए अभी से सयासी सरगर्मीयां काफ़ी तेज़ हो चुकी है। एन सी पी सदर-ओ-वज़ीर-ए-ज़राअत मिस्टर शरद पवार की जानिब से मलिक के सदारती ओहदा के लिए ज़्यादा सयासी ज़हन रखने वाले फ़र्द की हिमायत से मुताल्लिक़ ब्यान पर सयासी जमातों में मुबाहिस शुरू हो गए हैं जिन में कांग्रेस भी शामिल है ।

अब ये जमाअतें सदारती इंतेख़ाब में इत्तेफ़ाक़ राय पैदा करने पर ज़ोर दे रही हैं। समाजवादी पार्टी ने आज इस मसला पर तबादला ख़्याल के दौरान साबिक़ सदर मिस्टर ए पी जे अब्दुल कलाम के नाम पर भी ग़ौर किया है और कहा कि अगर उन्हें दुबारा उम्मीदवार नामज़द किया जाता है तो पार्टी उस की मुख़ालिफ़त नहीं करेगी ।

दीगर जमातों ने ताहम इस पर ख़ामोशी इख्तेयार कर रखी है । मिस्टर शरद पवार ने आज अपने ब्यान की वज़ाहत करते हुए कहा कि उन्हों ने सयासी ज़हन रखने वाले फ़र्द का तज़किरा नहीं किया और सिर्फ इतना कहा था कि किसी मुत्तफ़िक़ा उम्मीदवार को नामज़द किया जाना चाहीए ।

अख़बारी नुमाइंदों के सवाल का जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि उन्होंने कोई मुतनाज़ा रिमार्क नहीं किया और सिर्फ इतना कहा कि सदारती ओहदा पर किसी मुत्तफ़िक़ा उम्मीदवार को नामज़द किया जाना चाहीए । उन्होंने कहा कि चूँकि इस ओहदा पर कामयाबी के लिए यू पी ए और एन डी ए दोनों के पास तन्हा कामयाबी हासिल करने दरकार अरकान की ताईद नहीं है इसलिए मुशावरत का अमल ज़रूरी है ।

उन्होंने कहा कि उन्हें यक़ीन है कि इन जमातों की क़ियादतें ग़ौर-ओ-ख़ौज़ करेंगी । हमें किसी मुत्तफ़िक़ा उम्मीदवार पर ग़ौर करना चाहीए । मिस्टर पवार के रिमार्कस के बाद दो से नर मर्कज़ी वुज़रा ग़ुलाम नबी आज़ाद और कपिल सिब्बल ने फ़ौरी रद्द-ए-अमल का इज़हार किया है ।

मिस्टर आज़ाद ने सहाफ़ीयों से बात चीत करते हुए कहा कि चूँकि सदारती ओहदा काफ़ी बड़ा है और किसी भी सयासी जमात को अपना उम्मीदवार जताने की ताईद हासिल नहीं है इसलिए अगर किसी सदर का इंतेख़ाब अमल में आता है तो वो इत्तेफ़ाक़ राय से होगा ।

जम्हूरियत में हर ग्रुप को अपने ख़्यालात के इज़हार का हक़ है । शरद पवार के रिमार्कस के ताल्लुक़ से इस्तेफ़सार पर फ़रोग़ इंसानी वसाएल के वज़ीर मिस्टर कपिल सिब्बल ने कहा कि हम इत्तेफ़ाक़ राय की सिम्त काम कर रहे हैं। मिस्टर अब्दुल कलाम को एक और मीआद के लिए मुंतखिब करने से मुताल्लिक़ सवालात का जवाब देते हुए कांग्रेस तर्जुमान रेनूका चौधरी ने किसी रिमार्क से गुरेज़ किया ।

उन्होंने कहा कि मिस्टर कलाम एक मुअज़्ज़िज़ शख्सियत हैं। उन्होंने कहा कि हम इन का एहतेराम करते हैं। माज़ी में इन की ख़िदमात बेहतरीन रहीं। इसके इलावा इस पर वो कुछ भी कहने का इख्तेयार नहीं रखतीं। समाजवादी पार्टी लीडर-ओ-साबिक़ एम पी मिस्टर शाहिद सिद्दीकी ने कहा कि अगर इतेफ़ाक़ राय पैदा होता है तो उन की पार्टी को अब्दुल कलाम की दुबारा नामज़दगी पर कोई एतराज़ नहीं है ।

उन्होंने याद दहानी करवाई कि 2002 में भी इस पी सरबराह मुलायम सिंह यादव ने ही मिस्टर कलाम के नाम की तजवीज़ पेश की थी । उन्होंने कहा कि इन की पार्टी दीगर जमातों से तबादला ख़्याल करते हुए कुछ दूसरे नामों पर भी ग़ौर कर रही है । जनता दल यू के लीडर मिस्टर शरद यादव ने कहा कि इन की पार्टी और एन डी ए में अभी इस ताल्लुक़ से कोई तबादला ख़्याल नहीं हुआ है ।

यू पी ए ने भी अभी कोशिशें शुरू नहीं की हैं। डी एम के के तर्जुमान टी के एस ईला निगूँ ने कहा कि सदारती ओहदा के लिए कुछ सयासी तजुर्बा और क़ानूनी महारत ज़रूरी है । इसका ये मतलब नहीं है कि बहुत ज़्यादा सयासी ज़हन हो। सी पी एम के लीडर मिस्टर सीता राम येचोरी ने कहा कि अब तक इस ओहदा पर गैर सयासी और सयासी दोनों ही शख्सियतें फ़ाइज़ रही हैं ।

TOPPOPULARRECENT