Monday , August 21 2017
Home / Featured News / सपा के मतभेद में शिद्दत , अहम बैठक से अखिलेश का बाईकॉट

सपा के मतभेद में शिद्दत , अहम बैठक से अखिलेश का बाईकॉट

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में सत्तारूढ़ समाजवादी पार्टी ने उत्पन्न मतभेद आज जबरदस्त तीव्रता पैदा हो गई जब मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने पार्टी की राज्य इकाई के प्रमुख शिवपाल यादव ने अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव की रणनीति तैयार करने के लिए मांगी गई एक महत्वपूर्ण बैठक में शिरकत नहीं की। इस बैठक में शिवपाल ने अखिलेश को आगामी चुनाव के लिए अपनी पार्टी की ओर से मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार तय करने की घोषणा की। अखिलेश ने बाद में इन सभी प्रतिनिधियों से अपने आवास पर मिले जो अपने चाचा शिवपाल द्वारा मांगी गई बैठक में भाग लिया था। शिवपाल ने आज दिन में समाजवादी पार्टी के हेडक्वटर्स पर जिला और नागरिक इकाइयों के अध्यक्षों की बैठक बुलाई थी जिसमें अखिलेश की अनुपस्थित ने सबको हैरत में डाल दिया।

अगले साल की शुरुआत में होने वाले विधानसभा चुनाव की रणनीति तैयार करने के लिए मांगी गई इस बैठक में शिवपाल ने जाहिरा तौर पर सभी मतभेदों को दूर करते हुए अखिलेश को मुख्यमंत्री पद के लिए अपनी पार्टी का उम्मीदवार तय किया। शिवपाल यादव ने बैठक के बाद कहा कि आगामी चुनाव में यदि पार्टी को सत्ता मिलती है तब अखिलेश ही अगले मुख्यमंत्री होंगे। वह मुख्यमंत्री के लिए हमारी पार्टी के उम्मीदवार हैं। ” गौरतलब है कि कुछ दिन पहले अखिलेश के पिता मुलायम सिंह ने कहा था कि लेजसलैचर पार्टी अपना नेता चुनेगी। उनके इस रिमार्क पर मौजूदा मुख्यमंत्री समर्थक शिविर में नाराजगी पैदा हो गई थी। समाजवादी पार्टी के मुखिया मुलायम सिंह यादव के छोटे भाई शिवपाल ने हालांकि अपने भतीजे अखिलेश से कल रात व्यक्तिगत रूप से मुलाकात करते हुए इस बैठक में भाग लेने के लिए आमंत्रित किया था जिसके बावजूद मुख्यमंत्री इस बैठक से अनुपस्थित रहे।

जिससे संकेत मिलता है कि इस पार्टी में सब कुछ ठीक नहीं है। हालांकि उसके वरिष्ठ नेताओं यह दिखाने की कोशिश कर रहे हैं कि सब कुछ ठीक है। अखिलेश ने -5 कालीदास मार्ग पर स्थित मुख्यमंत्री के सरकारी घर‌ पर जिला अध्यक्षों से बातचीत की और / 3 नवंबर को अपनी रथयात्रा के कार्यक्रम से परिचित करवाया, जिसका अर्थ यह होगा कि / 5 नवंबर को उनके चाचा शिवपाल द्वारा आयोजित किए जाने वाली सपा रजत जयंती समारोहों से भी अखिलेश गायब रहेंगे।

इस स्थिति के बीच पार्टी में फूट की अटकलें शुरू हो गई हैं। यहां तक कहा जाने लगा है कि अखिलेश यादव प्रगति खोल समाजवादी पार्टी बनाएंगे जिसका चुनाव चिन्ह बाइक रहेगा।

TOPPOPULARRECENT