Tuesday , October 24 2017
Home / AP/Telangana / सरकारी नौकरियों में मुसलमानों की गैर आनुपातिक प्रतिनिधित्व पर तशवीश: सुधीर आयोग

सरकारी नौकरियों में मुसलमानों की गैर आनुपातिक प्रतिनिधित्व पर तशवीश: सुधीर आयोग

DR.Amir Khan Renowned Development Economist Deputy Director Gates Foundation Delhi,Prof.Abdul Shaban Deputy Director Tata Institute of Social Sciences and G.Sudhir IA (Retd) inquiry commissioner chairman addressing Media in Hyderabad on Tuesday.Pic:Style photo service.

हैदराबाद 29 अक्टूबर: सुधीर आयोग जांच ने तेलंगाना में सरकारी नौकरियों में मुसलमानों की गैर आनुपातिक प्रतिनिधित्व पर तशवीश का  इज़हार कीया। साथ ही अल्पसंख्यकों की भलाई के लिए आवंटित किए जाने वाले बजट के अभाव खर्च की भी निशानदेही की। जी सुधीर सेवानिवृत्त आईएएस अधिकारी के नेतृत्व में गठित आयोग जांच सरकार को पेशकश अपनी रिपोर्ट में वाज़िह किया कि प्रणाली शासनकाल में रोजगार में मुसलमानों का महत्वपूर्ण हिस्सा था लेकिन भारतीय संघ में इंज़िमाम के बाद इसमें कमी होने लगी। जांच आयोग ने सरकार के 208 मह्कमाजात और सरकारी संस्थाओं से मुसलमानों की नौकरियों के बारे में जानकारी मांगी थी लेकिन 131 मह्कमाजात ने आयोग को जानकारी रवाना कीं।

इस मह्कमाजात सचिवालय के 23 विभागों के तहत काम करते हैं प्रदान जानकारी के अनुसार कुल मिलाकर सरकारी कर्मचारियों की संख्या 4 लाख 79 हजार 556 है जिसमें मुसलमानों की हिस्सेदारी सिर्फ 7.36 प्रतिशत है। आयोग ने यह एहसास ज़ाहिर किया कि मुसलमानों की आबादी का अनुपात 12.68 प्रतिशत है उन्मुख रोजगार में उनके योगदान बेहद कम है। आयोग ने मुख्य मह्कमाजात में मुसलमानों की कम हिस्सेदारी की निशानदेही की और कहा कि उनके मह्कमाजात में कम प्रतिनिधित्व से निर्णय लेने और सरकार की स्कीमात पर अमल आवरी मुतास्सिर हो सकती है। शिक्षा विभाग में 6.53 प्रतिशत, प्रवेश 8.73 प्रतिशत और सामाजिक भलाई में 3.37 प्रतिशत मुस्लिम कर्मचारी हैं।

आयोग ने नौकरियों में मुस्लिम महिलाओं की हिस्सेदारी बेहद कम करार दिया और कहा कि 23 मह्कमाजात में मुस्लिम पुरुष कर्मचारियों का हिस्सा 8.09 प्रतिशत है जबकि मुस्लिम महिलाओं 5.24 प्रतिशत हैं। आयोग ने एडमिनिस्ट्रेटिव सर्वीतियस में मुसलमानों के कम प्रतिनिधित्व पर भी तशवीश का इज़हार किया है।

तेलंगाना में मनज़ोरा 340 एडमिनिस्ट्रेटिव सर्विस ओहदेदारों में मुसलमानों का हिस्सा केवल 2.94 प्रतिशत है। 163 आईएएस अधिकारियों में केवल 5 मुसलमान हैं। 112 आईपीएस अधिकारियों में 2 मुसलमान हैं जबकि 65 आईएफएस अधिकारियों में भी केवल 2 मुस्लिम अधिकारी हीं.कमेशन ने सरकार से सिफारिश की के वह इस कमी को पूरा करने के लिए कदम उठाए।

सुधीर आयोग ने अपनी रिपोर्ट में इस बात की भी बताया कि महत्वपूर्ण पदों पर मुसलमानों की संख्या बेहद कम है जबकि अवर स्थिति के पदों पर ज्यादातर मुसलमान नौकरी कर रहे हैं, यह स्थिति निराशाजनक है .56.57 प्रतिशत मुसलमान अंतिम स्थिति के कर्मचारी हैं। राजपत्रित अधिकारियों की संख्या केवल 1.43 प्रतिशत है और शेष 42 प्रतिशत गैर राजपत्रित स्थिति से संबंधित हैं।

TOPPOPULARRECENT