Thursday , September 21 2017
Home / Bihar News / साइबर ठगों का पाकिस्तान कनेक्शन : भारत के लोगों का नंबर देकर कमाता था करोड़ों रुपए

साइबर ठगों का पाकिस्तान कनेक्शन : भारत के लोगों का नंबर देकर कमाता था करोड़ों रुपए

भागलपुर : भागलपुर और पटना एटीएस ने मुश्तरका कार्रवाई कर सनीचर को लॉटरी के नाम पर पैसा ठगने वाले गिरोह के पाकिस्तान और सऊदी अरब कनेक्शन का खुलासा किया है। उसने भागलपुर और लखीसराय से इंटरनेशनल ठग गिरोह के छह मेम्बरों को गिरफ्तार किया है।
ये लोग भारत के लोगों का नंबर पाकिस्तानी और सऊदी अरब के ठगों को भेजते थे। वहां से उन नंबरों पर फोन कर लोगों से ठगी की जाती थी। पकड़े गए तमाम ठग भागलपुर और लखीसराय के रहने वाले हैं। पुलिस गुजिश्ता छह माह से इन ठगों की सरगर्मियों की पड़ताल कर रही थी। पुलिस इनके दहशतगर्द कनेक्शन की भी जांच कर रही है।

एसएसपी विवेक कुमार ने बताया कि एक ठग के ज़रिये से महीने में 80 लाख से एक करोड़ तक की ठगी होती थी। इनके पास से अलग-अलग बैंकों के 50 एटीएम, डेबिट कार्ड, कई बैंक एकाउंट की जमा पर्ची, पासबुक और 12 मोबाइल मिले हैं। पाकिस्तान के अलावा सउदी अरब के ठग से सांठगांठ होने के सबूत भी मिले हैं।

पकड़े ठगों का पाकिस्तान के ठगों से राब्ता है। वे उन्हें भारत के लोगों का मोबाइल नंबर भेजते थे। पाकिस्तान के ठग उन नंबरों पर कॉल कर लॉटरी निकलने की बात कह कर झांसे में लेते थे। लॉटरी के पैसे देने से पहले अपना अकाउंट नंबर देकर उसमें पैसा जमा करवाते थे। इसके बाद अपना हिस्सा रख कर बाकी पैसे हवाला के जरिए पाकिस्तान सउदी अरब के ठगों को भेजते थे।

भागलपुर एसएसपी विवेक कुमार ने कहा कि जितेंद्र के दो साथी गोपाल गोयल और पवन गुप्ता पहले भी इस तरह की ठगी में जेल जा चुके हैं। दोनों लखीसराय के रहने वाले हैं। पकड़े गए नौजवानों के दहशतगर्द कनेक्शन की तहकीकात की जा रही है। इन पैसों का पाकिस्तान में क्या इस्तेमाल हो रहा है, इसका पता लगाया जा रहा है। इसके लिए एनआईए समेत दीगर जांच एजेंसियों का भी मदद लेंगे।

 

TOPPOPULARRECENT