Friday , October 20 2017
Home / Uttar Pradesh / साढ़े चार हजार म्यूटेशन जेरे गौर

साढ़े चार हजार म्यूटेशन जेरे गौर

रांची टाउन सीओ दफ्तर में साल  2014-15 में अबतक साढ़े चार हजार म्यूटेशन जेरे गौर पड़े हुए हैं। इसका खुलासा पीर को जुनूबी छोटानागपुर डिवीजन के कमिश्नर केके खंडेलवाल की तरफ से दफ्तर का तहक़ीक़ात

रांची टाउन सीओ दफ्तर में साल  2014-15 में अबतक साढ़े चार हजार म्यूटेशन जेरे गौर पड़े हुए हैं। इसका खुलासा पीर को जुनूबी छोटानागपुर डिवीजन के कमिश्नर केके खंडेलवाल की तरफ से दफ्तर का तहक़ीक़ात
करने के बाद हुआ। कमिश्नर मिस्टर खंडेलवाल पीर को दोपहर 2.30 बजे के तकरीबन सीओ दफ्तर पहुंचे। उन्होंने सीओ से म्यूटेशन की हालत की जानकारी
ली। पाया गया कि साल 2014 से अब तक लगभग चार हजार 600 म्यूटेशन के दरख्वास्त
आये, जिसमें सिर्फ एक सौ दरख्वास्त का ही निबटारा हुआ है।  कमिशनर ने निबटाये गये मामलों की भी पूरी जानकारी मांगी है। वह देखना चाहते हैं कि इन 100 दरख्वास्त को ही क्यों निबटाया गया है।

कमिश्नर सीओ दफ्तर का हाल देखकर नाराज हुए। उन्होंने इसका वजह जानना चाहा, तो न तो सीओ और न ही मुतल्लिक़ मुलाज़िम कोई  जवाब दे पाये। तकरीबन
तीन घंटे तक कमिश्नर सीओ दफ्तर  का जायजा लिया।  इस दौरान उन्होंने म्यूटेशन रिकॉर्ड बुक की मांग की। तीन घंटे तक सीओ व मुलाज़िम कमिश्नर आयुक्तको रिकॉर्ड बुक नहीं दिखा सके। आयुक्तकमिश्नर ने इसे काफी संजीदगी से लिया है।

जानकारी के मुताबिक 18 फरवरी को सीओ समेत मुतल्लिक़ मुलाज़िम को वजह बताओ नोटिस जारी किया जायेगा। जबकि इस लापरवाही पर सीओ व मुतल्लिक़ मुलाज़िम पर कार्रवाई तकरीबन तय मानी जा रही है। बताया जाता है कि म्यूटेशन नहीं होने पर कई लोगों ने कमिश्नर के पास तहरीरी  शिकायत की। इसके बाद कमिश्नर ने यह कदम उठाया

TOPPOPULARRECENT