Sunday , October 22 2017
Home / India / सार्क चोटी कान्फ़्रैंस का कल से मालदीप मैं आग़ाज़, वज़ीर-ए-आज़म की रवानगी

सार्क चोटी कान्फ़्रैंस का कल से मालदीप मैं आग़ाज़, वज़ीर-ए-आज़म की रवानगी

नई दिल्ली 09 नवंबर (पी टी आई) वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह कल चार रोज़ा दौरा-ए-मालदीप पर रवाना हो रहे हैं। जहां वो सार्क चोटी कान्फ़्रैंस में शिरकत करेंगे और अपने पाकिस्तानी हम मंसब यूसुफ़ रज़ा गिलानी से मुलाक़ात करेंगॆ।

नई दिल्ली 09 नवंबर (पी टी आई) वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह कल चार रोज़ा दौरा-ए-मालदीप पर रवाना हो रहे हैं। जहां वो सार्क चोटी कान्फ़्रैंस में शिरकत करेंगे और अपने पाकिस्तानी हम मंसब यूसुफ़ रज़ा गिलानी से मुलाक़ात करेंगॆ।

मनमोहन सिंह जिन के हमराह वज़ीर-ए-ख़ारजा ऐस ऐम कृष्णा क़ौमी सलामती मुशीर शिव शंकर मेनन और मोतमिद ख़ारिजा रंजन मथाई भी होंगॆ। 10 और 11 नवंबर को मालदीप के जज़ाइर अड्डो में मुनाक़िद होने वाली चोटी कान्फ़्रैंस के मंदूबीन की क़ियादत करेंगॆ। यहां से वो माले जाएं जो मालदीप का दार-उल-हकूमत है यहां पर बाहमी बातचीत का इमकान है।

लेकिन तमाम नज़रें वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह और वज़ीर-ए-आज़म पाकिस्तान यूसुफ़ रज़ा गिलानी के दरमयान मुलाक़ात पर मर्कूज़ हैं। ये मुलाक़ात 11 नवंबर को होने की तवक़्क़ो है। जब दोनों ममालिक बाहमी ताल्लुक़ात पर ग़ौर करेंगे और पाकिस्तान की जानिब से हालिया हिंदूस्तान को अता करदा ख़ुसूसी निहायत ही पसंदीदा मौक़िफ़ के फ़ैसले पर ये मुलाक़ात एहमीयत भी रखती है।

पाकिस्तान ने अपने फ़ैसले पर बादअज़ां जिस तरह की वज़ाहत की इस पर भी कुछ इख़तिलाफ़ात को दूर कर लिया जाएगा। एकात के बाद ही इस मसला पर वाज़िह बात सामने आएगी। मनमोहन सिंह और गिलानी ने गुज़श्ता मार्च में मोहाली में मुलाक़ात की थी।

इन की ये मुलाक़ात दोनों मुल्कों के दरमयान खेले गए वर्ल्ड कप सेमीफाइनल के मौक़ा पर हुई थी। इन दोनों क़ाइदीन ने अप्रैल 2010-ए-में भूटान में मुनाक़िदा गुज़श्ता की सार्क चोटी कान्फ़्रैंस में भी मुलाक़ात की थी। मुंबई हमला आवरों को इंसाफ़ के कठहरे में लाने के लिए पाकिस्तान की कार्यवाईयों के बिशमोल दीगर मसाइल पर बातचीत होगी।

इस दौरा पर मुख़्तसर ब्रीफिंग करते हुए मोतमिद ख़ारिजा मथाई ने कहा कि हिंदूस्तान और पाकिस्तान के दरमयान बाहमी ताल्लुक़ात में पेशरफ़त के लिए इशारे दिए जाएंगी। पाकिस्तान की जानिब हिंदूस्तान को ख़ुसूसी पसंदीदा मलिक का मौक़िफ़ दिए जाने के बाद बाहमी ताल्लुक़ात को फ़रोग़ देने पर तवज्जा दी जाएगी। 17 वीं चोटी कान्फ़्रैंस के दौरान जो मालदीप की जानिब से तीसरी मर्तबा मुनाक़िद की जा रही है असल मक़सद सार्क ममालिक के दरमयान राबिता कारी के इन्फ़िरा स्ट्रकचर को बेहतर बनाना, तिजारत को फ़रोग़ देना और अवाम से अवाम के राबिता को भी बेहतर बनाना शामिल है।

इस चोटी कान्फ़्रैंस में 4 अहम मुआहिदों को क़तईयत दी जाएगी। इस में इलाक़ाई मयारात पर दो मिआ हिदी, क़ुदरती आफ़ात समावी से निमटने के लिए एक बेहतर मेकानिज़म का क़ियाम और सार्क शैड बैंक का क़ियाम भी शामिल हैं।

मनमोहन सिंह का दौरा-ए-माले से तवक़्क़ो है कि हिंदूस्तान के पड़ोसी ममालिक के साथ ख़रीबी और हिक्मत-ए-अमली पर मबनी ताल्लुक़ात को एक नई क़ुव्वत अता होगी। वज़ीर-ए-आज़म हिंदूस्तान ने इस से पहले सितंबर 2002-ए-में मालदीप का दौरा किया था। इस दौरा के मक़ासिद मालदीप के साथ हिंदूस्तान के क़रीबी दोस्ताना ताल्लुक़ात को फ़रोग़ देना और मौजूदा मौक़िफ़ पर नज़रसानी करना शामिल है।

वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह मालदीप की पार्लीमैंट से भी ख़िताब करेंगे और इस दौरान कई मुआहिदों पर दस्तख़त की जाने की तवक़्क़ो है।

TOPPOPULARRECENT