Tuesday , June 27 2017
Home / India / भोपाल एनकाउंटर में गठित आयोग ने पुलिस अधिकारियों के बयान पर उठाए सवाल

भोपाल एनकाउंटर में गठित आयोग ने पुलिस अधिकारियों के बयान पर उठाए सवाल

मध्यप्रदेश: 31 अक्टूबर को भोपाल सेंट्रल जेल ब्रेक और मुठभेड़ मामले में जांच करने गठित की गई न्यायिक आयोग ने सेंट्रल जेल को एक नोटिस भेजा है जिसमें उन्होंने 8 सिमी संधिग्दों की मौत पर जेल अधिकारियों से सवाल उठाए हैं। आयोग ने इसमें पूछा है कि सिमी के अंडरट्रायल कैदी जेल से किन हालात में भागे थे क्योंकि इस एनकाउंटर में जेल अधिकारियों का कहना था कि कैदी जेल के अधिकारी की हत्या कर दीवार फांद कर भाग गए थे।

इन सभी को पुलिस ने कुछ घंटे बाद ही भोपाल सेंट्रल जेल से लगभग 15 किमी दूर मार गिराया था जिसे उन्होंने मुठभेड़ का नाम दिया। खुद को बचाने के लिए  पुलिस अधिकारियों का कहना था कि कैदियों ने पहले उनपर फायरिंग की थी। जिसके बाद पुलिस द्वारा की गई जवाबी फायरिंग में सभी मारे गए थे। लेकिन इस मुठभेड़ में कई तथ्य सामने आये जिसने पुलिस अधिकारियों और राज्य के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पर सवाल उठाए हैं।

गौरतलब है कि सार्वजनिक रूप से मारे गए कैदियों को खूंखार आतंकवादी बताया था। इस मामले में मौके पर मौजूद चश्मदीद द्वारा बनाई गई वीडियो सामने आने के बाद इस एनकाउंटर की सच्चाई शक के दायरे में है।  इसके साथ मध्य प्रदेश एटीएस के प्रमुख ने मुठभेड़ के फौरन बाद ऑन-रिकॉर्ड बयान दिया था कि मारे गए सभी कैदी निहत्थे थे। आपको बता दें कि इस न्यायिक आयोग का नेतृत्व हाईकोर्ट के सेवानिवृत्त न्यायाधीश न्यायमूर्ति एस.के.पांडेय कर रहे हैं।

Top Stories

TOPPOPULARRECENT