Sunday , August 20 2017
Home / India / सिमी एनकाउन्टर : शिवराज सिंह ने घटना के चश्मदीद गवाहों को नकद इनाम देने की घोषणा की

सिमी एनकाउन्टर : शिवराज सिंह ने घटना के चश्मदीद गवाहों को नकद इनाम देने की घोषणा की

भोपाल : मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कथित सिमी कार्यकर्ताओं के एनकाउन्टर के बाद मुठभेड़ के स्थल के निकट गांव के निवासियों के बीच 40 लाख रुपये का नकद इनाम देने की घोषणा की है | शिवराज सिंह चौहान के इस बयान की चौतरफ़ा ओलचना की जा रही है |

मध्य प्रदेश सरकार की और से जारी एक आधिकारिक प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया है कि मुठभेड़ के दौरान पुलिस की मदद करने वाले स्थानीय निवासियों के लिए मुख्यमंत्री ने इस इनाम की घोषणा की है। ये पैसा समान रूप से नागरिकों के बीच बांटा जायेगा | मीडिया के लिए जारी एक बयान में बताया गया कि अचारपुरा के सरपंच और और कुछ अन्य गाँव वासियों को मंगलवार को भोपाल में एक कार्यक्रम में सम्मानित किया जाएगा|एक स्थानीय नेता  ने इस बयान की आलोचना करते हुए कहा है कि ये घटना के चश्मदीद गवाहों को मुंह बंद रखने और  मुठभेड़ की जांच को प्रभावित करने की एक कोशिश है | जाँच शुरू होने से पहले इस तरह से घोषणा करना बिल्कुल ग़लत है इससे जाँच प्रभावित होगी |

ऑल इंडिया मिल्ली काउंसिल के प्रदेश अध्यक्ष आरिफ मसूद ने इस नकद इनाम की घोषणा की निंदा करते हुए कहा कि सरकार ने साफ़ तौर पर खुद को असहज स्थिति से बचाने के लिए ये ईनाम देने की योजना बनायी गयी है |

भोपाल के एक सामाजिक संगठन मुस्लिम विकास परिषद के नेता मोहम्मद माहिर ने कहा कि स्थानीय निवासियों के बयान में मारे गये लोगों के पास हथियार थे या नहीं इस बात पर बहुत विरोधाभास है | इस ईनाम से ये साफ़ तौर पर पता चलता है कि ये गाँव वासियों को अपना मुंह बंद रखने के लिए खैरात बांटी जा रही है |

इससे पहले गाँव वासियों ने मीडिया को बताया था कि एनकाऊंटर मारे गये लोगों के पास हथियार नहीं थे | भोपाल के गृहमंत्री, पुलिस महानिरीक्षक और एटीएस प्रमुख सहित मध्य प्रदेश सरकार के अधिकारियों के बयानों में भी इस बात को लेकर मतभेद है |

एक वरिष्ठ वकील ने कहा कि मुठभेड़ की वीडियो के ज़रिये आधिकारिक दावों की पोल खुल जाने के डर से  सरकार ने खुद को बचाने की कोशिश कर रही है |उन्होंने कहा कि घटना की मजिस्ट्रेटी जांच शुरू होने से पहले इस तरह के नकद इनाम की घोषणा बिलकुल ग़लत है | सरकार खुद को परेशानी से बचाने के लिए इस तरह का काम कर रही है |

इस बीच, आरिफ मसूद ने यह भी कहा है कि उच्च न्यायालय में एक याचिका दायर किये जाने की तैय्यारी की जा रही है | उन्होंने कहा कि राज्यपाल को एक ज्ञापन सौंप कर इस फर्ज़ी आरोप मुठभेड़ फर्जी की न्यायिक जांच की मांग की गयी है |

TOPPOPULARRECENT