Sunday , October 22 2017
Home / Hyderabad News / सीमा आंध्र अवाम नाइंसाफी के अंदेशों से सड़कों पर निकल आए हैं

सीमा आंध्र अवाम नाइंसाफी के अंदेशों से सड़कों पर निकल आए हैं

सेक्रेटरी रियास्ती सी पी आई डक्टर के नारायणा ने कहा कि सीमा आंध्र में जारी एहतेजाज मुफ़ाद परस्त जद्द-ओ-जहद हरगिज़ नहीं है बल्कि रियासत की तक़सीम-ए-अमल में आने पर उन्हें (सीमा आंध्र अवाम के साथ ) ना इंसाफ़ी होने का डर-ओ-ख़ौफ़ पाए जाने की वज

सेक्रेटरी रियास्ती सी पी आई डक्टर के नारायणा ने कहा कि सीमा आंध्र में जारी एहतेजाज मुफ़ाद परस्त जद्द-ओ-जहद हरगिज़ नहीं है बल्कि रियासत की तक़सीम-ए-अमल में आने पर उन्हें (सीमा आंध्र अवाम के साथ ) ना इंसाफ़ी होने का डर-ओ-ख़ौफ़ पाए जाने की वजह से ही तलबा बेरोज़गार नौजवान सरकारी मुलाज़मीन सड़कों पर निकल आए हैं।

लेकिन उस एहतेजाज-ओ-जद्द-ओ-जहद में शामिल होने वाले सयासी क़ाइदीन सिर्फ़ और सिर्फ़ अवाम में अपना मुक़ाम पैदा करने के लिए ही भरपूर हिस्सा ले रहे हैं।

आज यहां अपने एक बयान में सेक्रेटरी रियास्ती सी पी आई ने सयासी जमातों के क़ाइदीन को अपनी सख़्त तन्क़ीद का निशाना बनाया और कहा कि कुल जमाती मुनाक़िदा मीटिंग में मुख़्तलिफ़ सयासी जमातों की तरफ से इज़हार करदा ख़्यालात के बर ख़िलाफ़ अपनी पालिसीयों को तबदील करके मौकापरस्ती का मुज़ाहरा मुख़्तलिफ़ सयासी जमातों के क़ाइदीन की तरफ से किया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि सदर तेलुगूदेशम पार्टी एन चन्द्रबाबू नायडू ने अपनी बात-ओ-फ़ैसला ना बदलने के बावजूद इस पार्टी (तेलुगूदेशम पार्टी) से ताल्लुक़ रखने वाले निचली सतह के क़ाइदीन में उलझन पाई जा रही है।

जिस के बाइस क़ाइदीन संजीदगी के साथ ग़ौर करने पर मजबूर हो रहे हैं। वाई एस आर कांग्रेस पार्टी को अपनी सख़्त तन्क़ीद का निशाना बनाते हुए कहा कि अपने सयासी मुफ़ादात को पेशे नज़र रखते हुए अपनी बात (अपना मौक़िफ़) को तबदील कर दिया है।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस क़ाइदीन में ये बात वाज़िह तौर पर पाई जाती हैके बज़ाहिर दिखाने के लिए कुछ भी कहीं लेकिन इस सिलसिले में असल पैकेज किया है इज़हार करने में नाकाम साबित होने का इल्ज़ाम लाग‌या।

डक्टर के नारायणा ने बताया कि इलाके राइलसीमा को पीने के पानी का अहम मसला बहुत ही एहमीयत का हामिल है। क्यूंकि सिरी सेलम से पानी मुनासिब अंदाज़ में ना आने की सूरत में राइलसीमा इलाके को भयानक सूरत-ए-हाल से दो चार होना पड़ेगा।

उन्होंने अपने इस ख़्याल का इज़हार किया कि बेरोज़गार नौजवानों में पाए जाने वाले डर-ओ-ख़ौफ़ को दूर करने के लिए बेहतर इक़दामात किए जाने की ज़रूरत है।

हैदराबाद में पाए जाने सीमा आंध्र मुलाज़मीन-ओ-अवाम का तहफ़्फ़ुज़ करने क़ानून के मुताबिक़त में मुकम्मिल तमानीयत देने का हुकूमत से डक्टर के नारायणा सेक्रेटरी रियास्ती सी पी आई ने पुरज़ोर मुतालिबा किया।

TOPPOPULARRECENT