Thursday , July 27 2017
Home / Khaas Khabar / सुनिये नॉएडा के कसाई की: जिनका भविष्य अब चाकू के नोक पर है

सुनिये नॉएडा के कसाई की: जिनका भविष्य अब चाकू के नोक पर है

नॉएडा: योगी आदित्यनाथ की अगुवाई वाली उत्तर प्रदेश सरकार ने गैरकानूनी बूचड़खानों को बंद करने के बाद नोएडा में बड़ी संख्या में मांस की दुकानों को बंद कर दिया है। मांस विक्रेताओं और कसाइयों ने एक जैसे आरोप लगाए हैं कि पुलिस ने जबरन उनके दुकानों को बंद कर दिया है, हालांकि उनमें से कईयों के पास वैध लाइसेंस भी हैं।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

उनका भविष्य अब चाकू की नोक पर है, और हर दिन, जब वे बिना काम के इंतजार करते हैं, उन पर निर्भर लोगों की जिंदगियाँ गंभीर रूप से पीड़ित हुई हैं। द क्विंट ने यहाँ ऐसे कुछ कसाइयों की कहानी उनके ज़बानी बयान की है जिनके पास कुछ भी नहीं बचा है सिवाए एक दूसरे के.

मोहम्मद फारूक से जब पूछा गया कि जो कुछ भी हुआ है, उसकी रौशनी में आप अपने नेतृत्व के बारे में कैसा महसूस करते हैं?

तो उन्होंने कहा कि मोदी को अपना काम पसंद है, वह उसे गंभीरता से लेते हैं वह कड़ी मेहनत करते हैं, और हम अपना काम ठीक से करते हैं तो फिर हम क्यों पीड़ित हैं? जब मोदी गुजरात के प्रभारी थे, तो ऐसा कुछ भी कभी नहीं हुआ था, फिर अब ऐसा क्यों हो रहा है?

हालांकि मैं मानता हूं कि योगी आदित्यनाथ एक अच्छा काम करेंगे। उन्होंने महिलाओं के जीवन को बेहतर बनाने के लिए अभियान शुरू किया है। हम सभी को विश्वास है कि वह इसे ठीक करेंगे।

मोहम्मद सैयद से जब पूछा गया कि इस प्रतिबंध का आपकी जाती जिंदगी पे क्या असर पड़ा है?

तो उन्होंने कहा कि इन दोनों सड़कों पर 70 दुकानें हैं, और 500 परिवार हमारी दुकानों के आय पर निर्भर हैं। तो आप कल्पना कर सकते हैं कि कितने लोग इस पर निर्भर हैं। हमने कानून का पालन किया, लेकिन हमने सबकुछ खो दिया। अल्लाह के इलावा हमारे पास सिर्फ उम्मीद है,

इसी तरह मोहम्मद वसिम से पूछे जाने पर कि क्या आपने कभी ऐसा सोचा था कि ऐसा कुछ होगा?

तो उन्होंने कहा कि बहुत सी सरकारें आई गई और आब भाजपा के पास सरकार है , लेकिन पहली बार ऐसा कुछ हुआ है। मैंने कभी इसकी कल्पना नहीं की थी.

जब उनसे यह पूछा गया कि कानूनी मानदंडों के बारे में बहुत कुछ कहा गया है। आप इसके बारे में क्या सोचते हैं?

तो उन्होंने कहा कि यदि नियम बनाये जाते हैं, तो वे सभी के लिए बनाए जाते हैं, अगर सरकार आपको लाइसेंस प्राप्त करने के लिए कहती है, तो आप लाइसेंस ले लेते हैं, हमने नियमों का पालन किया, लेकिन हमें सज़ा दी गई है, हमें अब क्या करना चाहिए?

जब उनसे यह पूछा गया कि यदि आप अपनी दुकानें बंद कर चुके हैं तो आप अभी भी यहाँ क्यों हैं?

हम इसके आलावा कोई और काम नहीं जानते, हमें कुछ और नहीं सिखाया गया है। हमें क्या करना चाहिए? हमें कहां जाना चाहिए?

मोहम्मद सैयद कहते हैं कि मैं, मेरा परिवार, मेरे भाई, मेरे बच्चे, सभी मांस की दुकान पर निर्भर हैं। अब हमारे पास मांस की दुकान नहीं है, हम नहीं जानते कि हम फिर से कब शुरू कर सकते हैं। मेरे बच्चे भूखे रह रहे हैं, मैं उनके स्कूल का भुगतान नहीं कर सकता, और अभी, मैं कुछ नहीं कर सकता.

यह यहीं खत्म नहीं होता है जो लोग भैंसों का ट्रांसपोर्ट करते हैं, हमारे साथ काम करने वाले कर्मचारी, और उनके परिवार को भी कोई दूसरा काम नहीं पता है। हममें से किसी को वास्तव में अब क्या करना चाहिए? हमें नहीं पता.

TOPPOPULARRECENT