Sunday , September 24 2017
Home / Delhi / Mumbai / सुप्रीम कोर्ट की मंजूरी के बाद रावत बतौर मुख्यमंत्री पद पर बहाल होने को तैयार

सुप्रीम कोर्ट की मंजूरी के बाद रावत बतौर मुख्यमंत्री पद पर बहाल होने को तैयार

नई दिल्ली: कांग्रेसी नेता हरीश रावत मुख्यमंत्री उत्तराखंड के पद पर 6 सप्ताह तक दूर‌ रहने के बाद वापस आने के लिए तैयार हैं। सदन विधानसभा में उन्होंने कल अपना बहुमत साबित कर दिया है। 61 सदस्यीय विधानसभा में उन्हें 33 वोट प्राप्त हुए। मतदान में कोई अनियमितता नहीं देखी गई। 9 विधायकों वोट नहीं दे सके क्योंकि उन्हें अयोग्य करार दिया गया था। सुप्रीम कोर्ट की बेंच‌ ने कहा और केंद्र को निर्देश दिया कि राष्ट्रपति शासन बर्खास्त कर दिया जाए ताकि 68 वर्षीय रावत मुख्यमंत्री पद पर बहाल हो सके।

देहरादून में इस खबर के मिलते ही जश्न शुरू हो गया। केंद्र की मोदी सरकार को बड़ा धक्का लगा और वह मुंह दिखाने लायक नहीं रही। भाजपा का समर्थन करने वाले विधायकों जिन्होंने मांगों मुद्रास्फीति मंजूरी का विरोध किया था, अयोग्य घोषित कर दिए थे। अटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी ने स्वीकार हार करते हुए कहा कि इसमें कोई शक नहीं कि हरीश रावत ने अपना बहुमत साबित कर दिया है।

यह एक उचित निर्णय है। वरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल ने जिन्होंने अदालत में रावत की पैरवी की थी, प्रतिक्रिया करते हुए यह टिप्पणी की। नायब सदर कांग्रेस राहुल गांधी ने कहा कि लोकतंत्र में सफल हो गई है और उम्मीद है कि प्रधानमंत्री को सबक सीखना होगा। उन्होंने बुरी चाल किया। जबकि हम अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया। आखिरकार उत्तराखंड में लोकतंत्र की जीत हुई। राहुल गांधी ने अपने ट्विटर पर यह टिप्पणी की। इस बीच सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र से राष्ट्रपति शासन बर्खास्त करने की घोषणा अदालत में शुक्रवार तक पेश करने का निर्देश दिया है। शुक्रवार के दिन सुप्रीम कोर्ट हरीश रावत को फिर मुख्यमंत्री पद पर बहाल करने का प्रस्ताव पारित करेगी।

इस बीच केंद्रीय मंत्रिमंडल ने आज उत्तराखंड से शीघ्र राष्ट्रपति शासन की बर्खास्तगी की सिफारिश की है क्योंकि सदन में बहुमत को सुप्रीम कोर्ट की ओर से मान्यता प्राप्त हो चुकी है। आग मुख्यमंत्री हरीश रावत ने जो अपने पद पर डेढ़ महीने बाद वापस आने के लिए तैयार हैं, कि उत्तराखंड की जनता ने लोकतंत्र पर अपना विश्वास प्रकट किया है। उन्हें बुरे समय को भुलाकर नई शुरुआत करना चाहिए और प्रतिज्ञा करना चाहिए कि राज्य को विकास के रास्ते पर ले जाएंगे।

उन्होंने कहा कि वह भूमि माफिया के अंत के लिए ताजा उत्साह के साथ काम करेंगे। उत्तराखंड के परिणाम कांग्रेस के हौसले बुलंद हो गए हैं। उसने आज लोकसभा में मोदी सरकार की आलोचना करते हुए कहा कि उसे उम्मीद है कि विपक्ष की सरकारों को अधिक सत्ता से बेदखल नहीं किया जाएगा और लोकतंत्र की हत्या बंद हो जाएगी। सुप्रीम कोर्ट की ओर से क्षेत्र विश्वास के परिणाम स्वरूप कि आम घोषणा के बाद कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और लोकसभा में कांग्रेस सदस्यों ने उम्मीद जताई कि राष्ट्रपति शासन उत्तराखंड तत्काल बर्खास्त कर दिया जाएगा। उनकी अभिव्यक्ति खुशियों में एनसीपी नेता भी शामिल हो गए। हंगामा जारी रहने पर अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने बैठक दोपहर के भोजन तक के लिए स्थगित कर दिया।

TOPPOPULARRECENT