Wednesday , August 16 2017
Home / Delhi News / सुप्रीम कोर्ट ने पूछा, ‘मर्द हिन्दू, औरत हिन्दू’ में फर्क कैसे

सुप्रीम कोर्ट ने पूछा, ‘मर्द हिन्दू, औरत हिन्दू’ में फर्क कैसे

केरल के प्रसिद्ध सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर लगे प्रतिबंध को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने एक बार फिर मंदिर ट्रस्‍ट की खिंचाई की है। कोर्ट ने बुधवार को कहा कि हिंदू धर्म में महिला और पुरुष अलग-अलग धार्मिक समूह नहीं हैं और एक हिंदू, हिंदू होता है चाहे वह पुरुष हो या महिला।
sabrimala mandir
बता दें कि सबरीमाला मंदिर में मासिक धर्म की आयु वर्ग की महिलाओं के प्रवेश पर पिछले सैकड़ों सालों से रोक है। हालांकि, रजोनिवृत्ति की अवस्‍था में पहुंचने वाली महिलाओं को मंदिर में प्रवेश की अनुमति है। इसी रोक को हटाने को लेकर मामले की सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने यह टिप्‍पणी की। कोर्ट ने मंदिर ट्रस्‍ट से सवाल किया, ‘अगर किसी धार्मिक समूह को मंदिर के अंदर जाने की इजाजत है तो महिलाओं के प्रवेश पर क्‍यों रोक लगाना चाहिए?

पहले भी सुनवाई के दौरान जजों द्वारा कहा जा चुका है कि मंदिर में महिलाओं को पूजा की इजाजत नहीं देना, समानता के उनके संवैधानिक अधिकार का हनन है। सोमवार को कोर्ट ने कहा था कि आखिर महिलाओं को मंदिर में जाने से कैसे रोका जा सकता है। कोर्ट ने कड़ी फटकार लगाते हुए सवाल किया था कि क्या परंपरा संविधान से ऊपर है। सबरीमाला में महिलाओं के बैन का यह मामला 10 साल से कोर्ट में विचाराधीन है।

TOPPOPULARRECENT