Tuesday , October 24 2017
Home / Khaas Khabar / सेक्यूलर वोट बटने न पाये -सोनिया

सेक्यूलर वोट बटने न पाये -सोनिया

जामे मस्जिद दिल्ली के शाही इमाम सय्यद अहमद बुख़ारी की ज़ेर-ए-क़ियादत मुस्लिम क़ाइदीन के वफ़द ने सदर कांग्रेस सोनिया गांधी से मुलाक़ात की। इस मुलाक़ात के दौरान सोनिया गांधी ने मुस्लिम वफ़द से ख़्वाहिश की कि आने वाले लोकसभा इंतिख़ाबात में

जामे मस्जिद दिल्ली के शाही इमाम सय्यद अहमद बुख़ारी की ज़ेर-ए-क़ियादत मुस्लिम क़ाइदीन के वफ़द ने सदर कांग्रेस सोनिया गांधी से मुलाक़ात की। इस मुलाक़ात के दौरान सोनिया गांधी ने मुस्लिम वफ़द से ख़्वाहिश की कि आने वाले लोकसभा इंतिख़ाबात में सेकूलर वोटों की तक़सीम रोकने को यक़ीनी बनाया जाये।

सोनिया गांधी की 10 जनपथ रिहायश गाह पर कल रात हुई मुलाक़ात तक़रीबन 45 मिनट तक जारी रही। शाही इमाम सय्यद अहमद बुख़ारी ने मुसलमानों के हक़ में कांग्रेस की जानिब से किए गए मुख़्तलिफ़ इक़दामात की सताइश की और कहा कि मुख़्तलिफ़ मसाइल पर सोनिया गांधी ने तवज्जे देकर उनकी यकसूई की है। सय्यद अहमद बुख़ारी के क़रीबी ज़राए ने कहा कि कांग्रेस की ताईद करने के फ़ैसले को क़तईयत दी गई है।

इस ताल्लुक़ से बाक़ायदा ऐलान नमाज़े जुमा के बाद किया जाएगा। सोनिया गांधी से मुलाक़ात के दौरान उल्मा और दीगर मुस्लिम क़ाइदीन ने दहश्तगर्दी के मुक़द्दमात में गिरफ़्तार बेक़सूर मुस्लिम नौजवानों, तालीमी तहफ़्फुज़ात, फ़िर्कावाराना फ़सादाद, मुसलमानों की सलामती, सच्चर कमेटी सिफ़ारिशात पर अमल आवरी, रंगनाथ मिश्रा कमीशन की सिफ़ारिशात और इंसिदाद फ़िर्कावाराना तशद्दुद बिल समेत मुख़्तलिफ़ मसाइल पर तबादला-ए-ख़्याल किया। जामि मस्जिद के तर्जुमान राहत महमूद चौधरी ने कहा कि सोनिया गांधी ने मुस्लिम वफ़द की शिकायात और दीगर उमूर पर इज़हार किये गये ख़्यालात की पुरसुकून अंदाज़ में समाअत की।

सोनिया गांधी ने 6 रुकनी वफ़द से कहा कि उन की पार्टी अक़लियतों के लिए बहुत कुछ करना चाहती है, लेकिन वो ऐसा नहीं करसकी। बाज़ मर्कज़ी इस्कीमात पर बाज़ रियासतों में अमल आवरी नहीं की जा सकी क्योंकि वहां पर अपोज़िशन पार्टियों की हुकूमतें थीं। सबसे अहम बात ये हीका मुल्क के मौजूदा सियासी तनाज़ुर में सेकूलर वोटों को मुत्तहिद और मज़बूत रखना ज़रूरी है। आने वाले लोकसभा इंतिख़ाबात में सेकूलर वोटों में फूट नहीं पढ़नी चाहिए। मुसलमानों को फ़िर्कापरस्त ताक़तों के ख़िलाफ़ मुत्तहदा तौर पर वोट देने की ज़रूरत है।

इस मुलाक़ात से एक दिन क़ब्ल कांग्रेस लीडर राजीव शुक्ला ने अहमद बुख़ारी से मुलाक़ात की और सदर कांग्रेस सोनिया गांधी से मुलाक़ात के लिए मुस्लिम क़ाइदीन को मदऊ किया। शाही इमाम अहमद बुख़ारी की जानिब से कांग्रेस के हक़ में ताईद के ऐलान के बाद पार्टी को ज़बरदस्त ताक़त और तक़वियत हासिल हुई है।

आने वाले लोकसभा इंतिख़ाबात में नरेंद्र मोदी ज़ेर-ए-क़ियादत बी जे पी की मुहिम में अपोज़िशन पार्टी से कांग्रेस को सख़्त इंतिख़ाबी मुहिम का सामना है इस लिए कांग्रेस मुस्लिम क़ाइदीन को अपना हमनवा बना कर मुल्क भर में ख़ासकर उत्तरप्रदेश में अपना मौक़िफ़ बेहतर बनाने की कोशिश कररही है।

उत्तरप्रदेश में मुसलमानों की काबिले लिहाज़ आबादी है। रिवायती तौर पर हिंदुस्तानी मुसलमान कांग्रेस का ही हामी है, लेकिन हालिया बरसों में मुसलमानों ने दीगर पार्टियों की जानिब भी झुकव ज़ाहिर किया है।

TOPPOPULARRECENT