Thursday , October 19 2017
Home / India / सेप्टेम्बर में मनमोहन-ओबामा मुलाक़ात, न्यूक्लियर मुआहिदा और दिफ़ाई ताल्लुक़ात मौज़ूआत

सेप्टेम्बर में मनमोहन-ओबामा मुलाक़ात, न्यूक्लियर मुआहिदा और दिफ़ाई ताल्लुक़ात मौज़ूआत

वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह, सदर अमरीका बारक ओबामा से 27 सेप्टेम्बर को वाईट हाउज़ में मुलाक़ात करेंगे। मुशीर क़ौमी सलामती शिव शंकर मेनन ने कहा कि उनके दौरे को कामयाब बनाने के लिए तमाम ज़रूरी इक़दामात किए जा चुके हैं। इमकान है कि इस मुलाक़ात क

वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह, सदर अमरीका बारक ओबामा से 27 सेप्टेम्बर को वाईट हाउज़ में मुलाक़ात करेंगे। मुशीर क़ौमी सलामती शिव शंकर मेनन ने कहा कि उनके दौरे को कामयाब बनाने के लिए तमाम ज़रूरी इक़दामात किए जा चुके हैं। इमकान है कि इस मुलाक़ात के अहम मौज़ूआत में हिंद-अमरीका सीवीलीन न्यूक्लियर मुआहिदा और बाहमी तिजारती-ओ-दिफ़ाई ताल्लुक़ात में इज़ाफ़ा मर्कज़ी मौज़ूआत होंगे। शिव शंकर मेनन और मुशीर क़ौमी सलामती अमरीका सोसन राईस ने एक मुशतर्का प्रेस कान्फ्रेंस में ऐलान किया कि दोनों की मुलाक़ात में वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह के कारआमद दौरे का मंसूबा बना लिया गया है।

मुशीर क़ौमी सलामती हिन्दुस्तान ने वज़ीर-ए-दिफ़ा अमरीका से भी मुलाक़ात की ताकि दौरे की तैयारीयां की जा सके। उन्होंने हिन्दुस्तानी अख़बारी नुमाइंदों से अपने छः रोज़ा दौरा‍-ए‍-इख़तेताम पर ख़िताब करते हुए कहा कि उन्हें एतेमाद होगया है कि तैयारीयां बेहतर अंदाज़ में जारी हैं और दुरुस्त सिम्त में पेशरफ़त हो रही है ताकि वज़ीर-ए-आज़म का दौरा बहुत कामयाब बनाया जा सके। उन्होंने कहा कि इस दौरे में उन्होंने कई आला सतही अमरीकी ओहदेदारों से मुलाक़ात की है। वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह का दौरा एक मुख़्तसर दौरा है लेकिन बहुत कारआमद साबित होगा।

ये एक अच्छा दौरा साबित होगा। दौरे की दीगर तफ़सीलात का हनूज़ ताय्युन किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि सदर ओबामा वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह के साथ ज़ुहराना पर मुलाक़ात करेंगे जिस के बाद दोनों की बातचीत होगी। उन्होंने कहा कि इमकान है कि दिफ़ाई ताल्लुक़ात में नई राहें निकाली जाएंगी। इस सिलसिले में काम जारी है और ये एक नुमायां काम है क्योंकि इस के पसेपर्दा अहम नज़रिया ये भी है कि ख़रीदार । फ़रोख़त कनुंदा की सूरत-ए-हाल में दरहक़ीक़त मुशतर्का तौर पर तैयारी और मुशतर्का तौर पर पैदावार का रवैय्या तमाम मुख़्तलिफ़ दिफ़ाई आलात की ख़रीदारी में इख़तियार किया जाना चाहीए।

शिव शंकर मेनन ने कहा कि दोनों ममालिक मुशतर्का तौर पर ये रवैय्या इख़तियार कर सकते हैं, इस के लिए टेक्नोलोजी मुंतक़िल की जा सकती है और टेक्नोलोजी की ज़्यादा आला सतह पर पहुंचा जा सकता है। जिस सतह पर दोनों ममालिक ताहाल नहीं पहुंच सके हैं। सोसन राईस ने शिव शंकर मेनन से कहा कि ओबामा मनमोहन सिंह से मुलाक़ात के मुंतज़िर हैं। मुलाक़ात में शिव शंकर मेनन और सोसन राईस ने हिंद-अमरीका दिफ़ाई शराकतदारी का भी जायज़ा लिया।

शिव शंकर मेनन ने कहा कि हिन्दुस्तान के इलाक़े की सालमीयत की देख भाल हिन्दुस्तान का ख़ुदमुख़तार काम है। हम दीगर अफ़राद से हमारे मुफ़ादात की देख भाल के लिए दरख़ास्त नहीं किया करते। वो चीनी दरअंदाज़ी के ख़िलाफ़ अमरीका से इमदाद तलबी के बारे में सवाल का जवाब दे रहे थे जो सी आई ए की इत्तेला के पेशे नज़र किया गया था। उन्होंने कहा कि इस किस्म का सवाल सरहद पर दरअंदाज़ी के बारे में मेरे ख़्याल से नहीं पूछा जाना चाहीए था। उन्होंने कहा कि वो अमरीकी ओहदेदारों से मुख़्तलिफ़ वसीअतर मौज़ूआत पर तबादला-ए-ख़्याल करचुके हैं।

TOPPOPULARRECENT