Tuesday , October 17 2017
Home / India / सैफ अली ख़ान नवाब पटौदी इबराहीम महल में पगड़ी बांधने की रस्म अदा की गई , अरकान ख़ानदान शरीक

सैफ अली ख़ान नवाब पटौदी इबराहीम महल में पगड़ी बांधने की रस्म अदा की गई , अरकान ख़ानदान शरीक

हरियाणा ०१ नवम्बर (पी टी आई) बाली वुड अदाकार सैफ अली ख़ान का आज उन के आबाई महल में मुनाक़िदा तक़रीब में पटौदी के 10 वें नवाब की हैसियत से तक़र्रुर अमल में आया।

हरियाणा ०१ नवम्बर (पी टी आई) बाली वुड अदाकार सैफ अली ख़ान का आज उन के आबाई महल में मुनाक़िदा तक़रीब में पटौदी के 10 वें नवाब की हैसियत से तक़र्रुर अमल में आया।

इबराहीम महल में मुख़्तलिफ़ मवाज़आत के सरबराहान की मौजूदगी में 41 साला अदाकार को नवाब का एज़ाज़ अता करते हुए उन के सर पर पगड़ी बांधी गई। इस मौक़ा पर वालिदा शर्मीला टैगोर, बहनें सबा-और सोहा अली ख़ान मौजूद थीं। चीफ़ मिनिस्टर हरियाणा भूपिंद्रा सिंह हूड्डा ने भी तक़रीब में शिरकत की।

सैफ अली ख़ान को आज ये एज़ाज़ उन के वालिद हिंदूस्तानी क्रिकेट टीम के साबिक़ कप्तान मंसूर अली ख़ान पटौदी के इंतिक़ाल की वजह से मिला। 22 सितंबर को अलालत के बाइस उन का इंतिक़ाल हुआ था।

सैफ अली ख़ां की बहन सुबह-ए-अली ख़ान औकाफ-ए-शाही की सरबराह हैं जो साबिक़ा ममलकत के मज़हबी , रफ़ाही और ओक़ाफ़ी उमोर की देख भाल कर रही हैं। सबा अली ख़ान ने गुज़श्ता हफ़्ता कहा था कि इन के वालिद की फ़ातिहा चिहलुम के बाद उन के भाई सैफ अली ख़ान नवाब पटौदी की हैसियत से हलफ़ लेंगी।

मंसूर अली ख़ां पटौदी जिन की वालिदा भोपाल के आख़िरी नवाब हमीदुल्लाह ख़ान की दुख़तर थीं और वो भोपाल में पैदा हुईं, इस के इलावा वो औकाफ-ए-शाही की मुतवल्ली भी थीं।

TOPPOPULARRECENT