Thursday , October 19 2017
Home / India / सैयारह मुशतरी आज ज़मीन से क़रीब और चमकदार

सैयारह मुशतरी आज ज़मीन से क़रीब और चमकदार

निज़ाम शामसी में सूरज के बाद दूसरा सब से बड़ा सैयारह मुशतरी ज़्यादा चमकदार और बड़ा नज़र आएगा । प्लानिटरी सोसाइटी आफ़ इंडिया की एन श्री रघूनंद कुमार ने बताया कि इस सैयारह में दायरह नुमा निज़ाम पाया जाता है और ये सैयारह नुमायां तौर पर ज़्

निज़ाम शामसी में सूरज के बाद दूसरा सब से बड़ा सैयारह मुशतरी ज़्यादा चमकदार और बड़ा नज़र आएगा । प्लानिटरी सोसाइटी आफ़ इंडिया की एन श्री रघूनंद कुमार ने बताया कि इस सैयारह में दायरह नुमा निज़ाम पाया जाता है और ये सैयारह नुमायां तौर पर ज़्यादा बड़ा और चमकदार नज़र आएगा ।

उसे सादा आँख से भी देखा जा सकता है । उन्होंने कहा कि सूरज ग़ुरूब होने के एक घंटा बाद मशरिक़ी सिम्त में ब आसानी देखा जाएगा यही नहीं बल्के ये सैयारह नसब शब तक और फिर माबक़ी रात जुनूबी सिम्त में सादा आँख से देखा जा सकेगा ।

उन्होंने बताया कि मुशतरी में कसीर तादाद में फ़ित्री सेट्लाईटस मौजूद हैं और ये रात एक दूसरे के मुख़ालिफ़ सिम्त में जमा हो जाएंगे ।

किसी सैयारह को उस वक़्त मुख़ालिफ़ सिम्त में कहा जाता है जब वो ज़मीन से देखने पर सूरज से रास्त मुख़ालिफ़ हो। जब ये स्यारह सूरज के बिलकुल मुख़ालिफ़ सिम्त में आजाता है तो मुकम्मल तौर पर रोशन और चमकदार होता है और बज़ाहिर डिस्क की शक्ल में नज़र आता है ।

सैयारह मुशतरी हर 13 माह में इस तरह सूरज की मुख़ालिफ़ सिम्त में मौजूद होता है । मुशतरी का ज़मीन से अक़ल्ल तरीन फ़ासिला तक़रीबन 588 मुलैय्यन केलो मीटर्स हैं जबके आज़म तरीन फ़ासिला 967 मुलैय्यन केलो मीटर्स हैं ।

ये सैयारह बिलकुल क़रीब होगा और ज़मीन से इस का फ़ासिला सिर्फ़ 608 मुलैय्यन केलो मीटर्स पर होगा । इसी वजहे से ये ज़्यादा चमकदार और सादा आँख से भी दिखाई दे सकेगा ।

TOPPOPULARRECENT