Monday , October 23 2017
Home / India / सोनिया गांधी की रिहायश गाह के घेराव की धमकी

सोनिया गांधी की रिहायश गाह के घेराव की धमकी

नई दिल्ली, ११ अक्तूबर (पी टी आई) अरविंद केजरीवाल ने आज कहा कि वो माज़ूर (लाचार) कारकुनों के हमराह जुमा के दिन सदर कांग्रेस सोनिया गांधी की रिहायश गाह का घेराव करेंगे। उन्हों ने वज़ीर क़ानून सलमान ख़ूर्शीद से इस्तीफ़ा का मुतालिबा किया

नई दिल्ली, ११ अक्तूबर (पी टी आई) अरविंद केजरीवाल ने आज कहा कि वो माज़ूर (लाचार) कारकुनों के हमराह जुमा के दिन सदर कांग्रेस सोनिया गांधी की रिहायश गाह का घेराव करेंगे। उन्हों ने वज़ीर क़ानून सलमान ख़ूर्शीद से इस्तीफ़ा का मुतालिबा किया जिन्होंने उन की (केजरीवाल) और उन की अहलिया ( बीवी/ पत्नी) की जानिब से चलाए जाने वाले एन जी ओ पर इल्ज़ामात आइद किए थे।

सलमान ख़ूर्शीद ने कहा था कि केजरीवाल और उन की अहलिया एन जी ओ के ज़रीया बदउनवानीयों ( भ्रष्टाचार) में मुलव्वस हैं। अरविंद केजरीवाल ने सलमान ख़ूर्शीद से मुतालिबा किया कि वो ना सिर्फ काबीना ( Cabinet) से अस्तीफ़ा दें बल्कि अपने इल्ज़ामात ( आरोपों) की वज़ाहत (स्पष्टीकरण) भी करें।

उन्होंने अपने दफ़्तर में मुलाक़ात के लिए आने वाले 35 ता ( से) 40 माज़ूर ( चाचार) अफ़राद ( लोग) के ग्रुप से मुलाक़ात के बाद अपने एहितजाजी प्रोग्राम का ऐलान किया। वज़ीर क़ानून की अहलिया की जानिब से तशकील ( निर्माण) करदा एन जी ओ में ही मालीयाती बे क़ाईदगीयाँ हो रही हैं ये मुआमला बाइस-ए-शर्म ( शर्मनाक) है।

ये बदबख़ती की बात है कि मुल्क में एक ऐसा वज़ीर क़ानून भी है जो बदउनवानी ( भ्रष्टाचार) में मुलव्वस ( मिला हुआ) है। हम वज़ीर क़ानून से फ़ौरी इस्तीफ़ा का मुतालिबा ( मांग) करते हैं और उन की अहलिया ( बीबी) की गिरफ़्तार पर ज़ोर देते हैं।

हम जुमा के दिन सोनिया गांधी की रिहायश गाह का घेराव करेंगे और सलमान ख़ूर्शीद से इस्तीफ़ा पर ज़ोर देंगे। एक हिन्दी न्यूज़ चैनल ने कल इल्ज़ाम आइद किया ( आरोप लगाया था) था कि अरविंद केजरेवाल की एन जी ओ ने माज़ूर ( लाचार) अफ़राद के नाम पर उत्तर प्रदेश के कई अज़ला ( जिलो) में सीनीयर ओहदेदारों के जाली दस्तख़तों के ज़रीया रक़ूमात बटोरे हैं।

सलमान ख़ूर्शीद की अहलिया ने इन इल्ज़ामात को मुस्तर्द ( रद्द) करते हुए कहा कि इन में कोई सच्चाई नहीं है । ये इल्ज़ामात झूटे बे बुनियाद और मन घड़त हैं। उन्होंने एक बयान में कहा कि उन्होंने ख़ुद 17 सितंबर को चीफ मिनिस्टर यू पी अखिलेश यादव से दरख़ास्त की है कि इस ट्रस्ट के ख़िलाफ़ इल्ज़ामात की तहकीकात करवाएं और सच्चाई को सामने लाएं जिस के बाद ये पता चला कि इस ट्रस्ट ने कोई धोका दही नहीं की है।

TOPPOPULARRECENT