Monday , October 23 2017
Home / Khaas Khabar / सोनीया और वुज़रा की कारों में मुफ़्त का पेट्रोल, आम आदमी परेशान: बाल ठाकरे

सोनीया और वुज़रा की कारों में मुफ़्त का पेट्रोल, आम आदमी परेशान: बाल ठाकरे

शिवसेना सरबराह (व्यवस्थापक) बाल ठाकरे ने पेट्रोल की क़ीमतों में हालिया बेतहाशा(अचानक) इज़ाफ़ा पर अपनी ब्रहमी (गुस्सा) का इज़हार किया और अवाम ( जनता) को हिदायत दी कि अगर वो चाहते हैं कि हुकूमत पेट्रोल के दाम वापस ले तो ज़रूरत इस बात की है क

शिवसेना सरबराह (व्यवस्थापक) बाल ठाकरे ने पेट्रोल की क़ीमतों में हालिया बेतहाशा(अचानक) इज़ाफ़ा पर अपनी ब्रहमी (गुस्सा) का इज़हार किया और अवाम ( जनता) को हिदायत दी कि अगर वो चाहते हैं कि हुकूमत पेट्रोल के दाम वापस ले तो ज़रूरत इस बात की है कि वो हुकूमत के ख़िलाफ़ मुत्तहदा ( संयुक़्त) एहतिजाज (बात चीत) मुनज़्ज़म (संगठित) करें।

शिवसेना के तर्जुमान (प्रवक़्ता/व्याख्याकार) अख़बार सामना में बाल ठाकरे ने अपने ख़्यालात का इज़हार करते हुए कहा शिवसेना और एन डी ए पेट्रोल की इज़ाफ़ा शूदा क़ीमत के ख़िलाफ़ मुल्क गीर पैमाने पर तहरीक ( आंदोलन) चलायेंगे और अगर इसके लिए भारत बंद का भी एहतिमाम (प्रबंध/ इंतेज़ाम) किया गया तो वो हमारे लिए काबिल-ए-क़बूल होगा।

उन्होंने कहा कि अवाम ( जनता) की समझ बूझ को आख़िर क्या हो गया है। गुज़शता (पिछले) तीन सालों में यू पी ए हुकूमत ने एक दो बार नहीं बल्कि 16 बार पेट्रोल के दाम बढ़ाए लेकिन अवाम ने एक बार फिर यू पी ए हुकूमत का ही इंतिख़ाब ( चयन) किया।

लिहाज़ा अब वक़्त आ गया है कि अवाम कमरबस्ता हो जाएं और कांग्रेस को धूल चटा दें। वक़्त का अहम तक़ाज़ा (ज़रूरत/ आवश्यक़्ता) है कि तमाम (सभी) अपोज़ीशन जमातें (पार्टीयां) मुत्तहिद ( एक/ मित्र धर्मी) हो जाएं और अवामी ब्रहमी (गुस्सा) का मुज़ाहरा ( प्रदर्शन) करें।

आज हिंदूस्तान के अवाम से ज़्यादा किस को भी पेट्रोल की ज़ाइद (ज़्यादा) क़ीमतें नहीं देना पड़ता। बह अलफ़ाज़ दीगर ( (दूसरे शब्दो में) हिंदूस्तानी अवाम पेट्रोल की सब से ज़्यादा क़ीमत अदा करते हैं। बाल ठाकरे ने कहा कि ज़रा तस्वीर का दूसरा रुख़ देखिए। पेट्रोल की क़ीमतों ने जहां आम आदमी की कमर तोड़ दी है, वहीं सोनीया गांधी और उन के वुज़रा ( मंत्रीगण) की फ़ौज की कारों में हुकूमत के फ़ंड से पेट्रोल भरा जाता है जबकि आम आदमी को अपनी छोटी से छोटी और बड़ी से बड़ी ज़रूरत की तमाम अशीया ख़ुद खरीदनी पड़ती हैं।

वुज़रा ( मंत्रीयों) के वारे न्यारे हैं। अवाम को चाहीए कि वो इज़ाफ़ा शूदा क़ीमत के साथ पेट्रोल की ख़रीदारी ना करें।

TOPPOPULARRECENT