Tuesday , September 26 2017
Home / India / सोमनाथ भारती की दरख़ास्त ज़मानत मुस्तरद

सोमनाथ भारती की दरख़ास्त ज़मानत मुस्तरद

नई दिल्ली: दिल्ली की अदालत ने आम आदमी पार्टीरुकन असेम्बली सोमनाथ भारती को घरेलू तशद्दुद और इक़दाम-ए-क़तल मुक़द्दमे में ज़मानत क़बल अज़ गिरफ़्तारी मंज़ूर करने से इनकार किया है। ऐडीशनल सेशन जज संजय गारग ने सोमनाथ भारती की ज़मानत के लिए दायर करदा दरख़ास्त मुस्तरद कर दी जिसमें उन्होंने कहा था कि वो दिल्ली के साबिक़ वज़ीर-ए-क़ानून हैं और उनके फ़रार होने का कोई इमकान नहीं है।

ऐडवोकेट विजय‌ अग्रवाल ने भारती की तरफ़ से पेश होते हुए कहा कि उनके मुवक्किल अब भी अपनी अहलिया और बच्चों की मदद करना चाहते हैं और वो मुसालहत के लिए भी तैयार हैं। अग्रवाल ने कहा कि भारती ख़ुद एक वकील हैं और दिल्ली के साबिक़ वज़ीर-ए-क़ानून रह चुके हैं।

इस लिए उनके फ़रार होने का कोई मौक़ा नहीं है। इस्तिग़ासा ने भारती की दरख़ास्त की मुख़ालिफ़त करते हुए कहा कि उनके ख़िलाफ़ आइद इल्ज़ामात इंतेहाई संगीन नौईयत के हैं। सोमनाथ भारती की अहलिया लपीका ने शौहर के ख़िलाफ़ ये मुक़द्दमा दर्ज कराया है और वो अदालत में मौजूद थीं।

उन्होंने ज़मानत क़बल अज़गिरफ़्तारी की मुख़ालिफ़त करते हुए कहा कि मेरे छोटे बच्चे बहुत ज़्यादा मुतास्सिर हो रहे हैं। वो अपने शौहर से मुहब्बत करती हैं इसी लिए पाँच साल तक ज़ुलम बर्दाश्त करती रही हैं। अदालत ने जब उनसे पूछा कि क्या वो मुसालहती कोशिश के लिए आमादा हैं उन्होंने इनकार किया और कहा कि मुसालहत का कोई इमकान नहीं। मेरे शौहर मुझे अपने बच्चों के सामने मरने के लिए छोड़ गए हैं।

TOPPOPULARRECENT