Tuesday , October 24 2017
Home / Hyderabad News / स्वामी गौड़ को बदनाम करने हुकूमत और सीमा आंधरा की साज़िश

स्वामी गौड़ को बदनाम करने हुकूमत और सीमा आंधरा की साज़िश

हैदराबाद 28 अक्टूबर ( सियासत न्यूज़)तेलंगाना एम्पलॉयज़ जवाइंट ऐक्शण कमेटी ने इस के क़ाइद स्वामी गौड़ पर बदउनवानीयों के हालिया इल्ज़ामात की मुज़म्मत की और इल्ज़ाम आइद किया कि एक मंसूबा बंद तरीक़ा से तलंगाना तहरीक के क़ाइदीन को बदनाम क

हैदराबाद 28 अक्टूबर ( सियासत न्यूज़)तेलंगाना एम्पलॉयज़ जवाइंट ऐक्शण कमेटी ने इस के क़ाइद स्वामी गौड़ पर बदउनवानीयों के हालिया इल्ज़ामात की मुज़म्मत की और इल्ज़ाम आइद किया कि एक मंसूबा बंद तरीक़ा से तलंगाना तहरीक के क़ाइदीन को बदनाम करने की कोशिश की जा रही है ।

जे ए सी के क़ाइद श्रीनवास गौड़ और दूसरों ने आज अख़बारी नुमाइंदों से बातचीत करते हुए इल्ज़ाम आइद किया कि हुकूमत और सीमा आंधरा के क़ाइदीन तेलंगाना तहरीक की क़ियादत को ख़तन करना चाहते हैं और बाअज़ मुलाज़मीन का सहारा लेकर कवापरीटीव हौसिंग सोसाइटी में बे क़ाईदगियों का स्वामी गौड़ पर इल्ज़ाम आइद किया गया ।

उन्होंने कहाकि असटरगल कमेटी के नाम पर बाअज़ ग़ैर मारूफ़ अफ़राद ने गवर्नर ई ऐस ईल नरसिम्हन को याददाश्त पेश की और बे क़ाईदगियों की सी बी आई तहक़ीक़ात का मुतालिबा किया ।

उन्होंने कहा कि इस साज़िश के पीछे हुकूमत और सीमा आंधरा क़ाइदीन हैं । श्रीनवास गौड़ ने कहा कि 42दिन की हड़ताल से बौखलाहट का शिकार होकर हुकूमत ने जय ए सी क़ाइदीन को बातचीत केलिए मदऊ किया और उन के मुतालिबात को क़बूल करने का ऐलान किया ।

हड़ताल के ख़तम होते ही दूसरे दिन स्वामी गौड़ पर इल्ज़ामात आइद किए गए ।

उन्हों ने कहा कि अगर कवापरीटीव सोसाइटी में बे क़ाईदगीयाँ हैं तो मुलाज़मीन को इस की निशानदेही करनी चाहीए जो भी गलतीयां हैं उन की इस्लाह की जाएगी लेकिन इस तरह की इल्ज़ाम तराशी से तहरीक को नुक़्सान हो सकता है।

श्रीनवास गौड़ ने असटरगल कमेटी के नुमाइंदों को बातचीत की दावत देते हुए कहा कि वो जे ए सी क़ाइदीन से मुलाक़ात करें और अलाटमैंट में बे क़ाईदगियों से वाक़िफ़ कराये ।

इस तरह एक दूसरे पर इल्ज़ाम तराशी से अवाम के सामने तहरीक में इख़तिलाफ़ात ज़ाहिर होंगे और इस से तलंगाना तहरीक को नुक़्सान होगा। उन्हों ने कहा कि स्वामी गौड़ पर इल्ज़ामात आइद करना उन के साफ़-ओ-शफ़्फ़ाफ़ कैरीयर को नुक़्सान पहुंचाने की कोशिश है।

इल्ज़ामात आइद करने वालों को चाहीए कि वो इस बात पर ग़ौर करें कि इन के इल्ज़ामात से तलंगाना तहरीक केलिए क़ुर्बानी देने वालों की क़ुर्बानियां रायगां साबित होंगी । उन्हों ने कहा कि स्वामी गौड़ पर ये इल्ज़ामात नए नहीं हैं साबिक़ में भी इस तरह के इल्ज़ामात आइद किए गए थे और तहक़ीक़ात में ये ग़लत साबित हुए । 2000से ज़ाइद मुलाज़मीन को गुच्ची बाउली जैसे अहम इलाक़ा में अराज़ी पट्टा जात का अलाटमैंट स्वामी गौड़ का अहम कारनामा है।

दरअसल बाअज़ ताक़तें इस इलाक़े की तरक़्क़ी को रोकना चाहती हैं। लोक आयुक्त हाइकोर्ट और रंगा रेड्डी जवाइंट कुलैक्टर की जानिब से भी तहक़ीक़ात की गईं और साबिक़ में भी इन इल्ज़ामात को बेबुनियाद क़रार देते हुए मुस्तर्द कर दिया गया ।

उन्होंने कहा कि स्वामी गौड़ पर इल्ज़ामात आइद करने का मक़सद तलंगाना तहरीक की क़ियादत को कुचलने की एक कोशिश है ।

श्रीनिवास गौड़ ने बताया कि 1996-ए-में स्वामी गौड़ पर गोली चलाई गई और उन्हें तलंगाना मुलाज़मीन केलिए जद्द-ओ-जहद से रोकने की कोशिश की गई लेकिन स्वामी गौड़ इस ख़तरे की परवाह किए बगै़र ना सिर्फ मुलाज़मीन केलिए जद्द-ओ-जहद कर रहे हैं बल्कि उन्हों ने तलंगाना तहरीक में भी अहम रोल अदा किया ।

उन्होंने इल्ज़ाम आइद करने वाले क़ाइदीन से कहाकि वो तहरीक को नुक़्सान पहुंचाए बगै़र बातचीत केलिए तैय्यार हो जाएं ।

TOPPOPULARRECENT