Friday , September 22 2017
Home / Crime / हंदवाडा हत्याओं पर जम्मू-कश्मीर विधानसभा में विपक्ष का विरोध

हंदवाडा हत्याओं पर जम्मू-कश्मीर विधानसभा में विपक्ष का विरोध

श्रीनगर: जम्मू-कश्मीर के निर्दलीय विधायक शेख अब्दुल आज मारशलस द्वारा सदन से बाहर कर दिया गया, जबकि विपक्षी नेशनल लकांरनस ने हंदवाडा हत्याओं की जांच पर सरकार से बयान देने की मांग करते हुए बजट सत्र का बहिष्कार कर दिया। वित्त मंत्री हसीब दरबो जैसे ही बजट 2016-17 पेश करने के लिए अपनी सीट से उठ खड़े हुए अब्दुल ने सरकार से मांग की कि हंदवाडा टाउन में हत्याओं पर बयान दिया जाए जबकि यह मौतें पिछले महीने एक सैनिक से एक कमसिन छात्रा के साथ कथित दस्त दराज़ी के खिलाफ हतजाज के दौरान पेश आई थीं।

निर्दलीय विधायक कि कनेक्ट क्षेत्र हंदवाडा के क्षेत्र लॉन गेट का प्रतिनिधित्व करते हैं। उनकी मांग में नेशनल कांफ्रेंस और कांग्रेस के सदस्य भी शामिल हुए और सरकार से बयान देने पर जोर दिया। हालांकि स्पीकर कवेनदर गुप्ता ने कहा कि विपक्ष के विरोध के चन्दाँ जरूरत नहीं है और वित्त मंत्री बजट भाषण जारी रखें। इस बीच नेशनल कांफ्रेंस नेता अली मोहम्मद सागर ने कहा कि अध्यक्ष के निर्देश के अनुसार सरकार को हंदवाडा घटना पर बयान देना चाहिए गो कि स्पीकर ने बयान देने के लिए दो दिन का समय बीत चुका है लेकिन देरी से यह संदेह होता है कि दाल में कुछ काला है।

पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी के मंत्री अब्दुल रहमान वैरी ने बचाव करते हुए विपक्षी सदस्यों से कहा कि वे अपनी सीटों पर वापस जाएँ। उन्होंने कहा कि सदन में बजट भाषण जारी है और मैं अपने कैरियर में बजट प्रस्ताव के दौरान इस तरह का विरोध कभी नहीं देखा जिस पर नशीनल सम्मेलन के सदस्यों सदन से वॉकआउट कर दिया और सदन की शेष कार्रवाई तक वापस नहीं आए हालांकि अब्दुल सदन के बीच में बैठकर अपने मांग को स्वीकार करते रहे।

अध्यक्ष ने विरोध सदस्य से बार-बार अपील की कि अपनी सीट पर वापस आ लेकिन कोई असर नहीं हुआ जिसके बाद गुप्ता ने मारशलस को निर्देश दिया कि रशीद को सदन से बाहर कर दें। गौरतलब है कि छात्रों के साथ दस्त दराज़ी घटना के विरोध में अब्दुल प्रस्तुतियों रहे और सुरक्षा ने विरोध को कुचलने के लिए बल प्रयोग किया था।

TOPPOPULARRECENT