Tuesday , October 17 2017
Home / India / हज की शान-ओ-अज़मत ज़ाहिर करने वाली किताब की इशाअत

हज की शान-ओ-अज़मत ज़ाहिर करने वाली किताब की इशाअत

नई दिल्ली, १५ दिसम्बर: (पी टी आई) मुक़द्दस तरीन मज़हबी फ़रीज़ा हिजाब 2 हज़ार तसावीर की ज़बानी 850 सफ़हात पर मुश्तमिल एक किताब में ब्यान किया जाएगा। इस दस्तावेज़ी तसावीर और मुख़्तलिफ़ ममालिक के फ़रीज़ा हज अंजाम देने वाले हाजियों के जज़बात-ओ-एहस

नई दिल्ली, १५ दिसम्बर: (पी टी आई) मुक़द्दस तरीन मज़हबी फ़रीज़ा हिजाब 2 हज़ार तसावीर की ज़बानी 850 सफ़हात पर मुश्तमिल एक किताब में ब्यान किया जाएगा। इस दस्तावेज़ी तसावीर और मुख़्तलिफ़ ममालिक के फ़रीज़ा हज अंजाम देने वाले हाजियों के जज़बात-ओ-एहसासात पर मुश्तमिल ये किताब आइन्दा माह पेश कर दी जाएगी।

इस किताब में इस्लाम के दानशोराना और फ़याज़ाना सफ़र का ज़िक्र भी किया गया है।

ये किताब महिदूद तादाद में शाय की गई है, जिस की रूनुमाई आज सऊदी शहज़ादा तुर्की अल-फ़ैसल अलसावद ने सऊदी अरब में की। उन्हों ने कहा कि सऊदी अरब आलिम इंसानियत केलिए एक मबदाए नूर की हैसियत रखता है।

ये किताब जिस का वज़न 40 किलोग्राम है। एक ख़ज़ाना की हैसियत रखती है, जो अवाम को मुक़द्दस तरीन फ़रीज़ा हज और सऊदी अरब से मुतआरिफ़ (introduce) करवाती है। इस के इलावा मुख़्तलिफ़ आलमगीर तहज़ीबों के दरमयान अज़ीम तर तफ़हीम की राह भी हमवार करती है।

850 सफ़हात की इस किताब का वज़ी दरहक़ीक़त 37 किलोग्राम है, जिस की तालीफ़ के लिए 3 साल की मुद्दत सिर्फ हुई। मुअल्लिफ् ने 2 हज़ार तसावीर जमा कीं और 70 ममालिक के हाजियों से तबादला-ए-ख़्याल किया। इस का ख़ुसूसी हिंदूस्तानी ऐडीशन सरकारी तौर पर आइन्दा मार्च में बाज़ार में पेश किया जाएगा। इस के सिर्फ 100 नुस्खे़ अवाम के लिए दस्तयाब होंगी।

हालाँकि किताब की क़ीमत का हनूज़ फ़ैसला नहीं किया गया है लेकिन इमकान हीका इस किताब की क़ीमत 40 हज़ारता 50 हज़ार अमरीकी डालर यानी 21 लाख से 26 लाख रुपये होगी। किताब अंग्रेज़ी और अरबी दोनों ज़बानों में बैयक वक़्त शाय की जाएगी और हज़ारों तसावीर इस में शामिल की जाएंगी, जो सफ़र मक्का मुअज़्ज़मा का तज़किरा ज़बान-ए-हाल से करेंगी |

TOPPOPULARRECENT