Tuesday , October 17 2017
Home / International / हज को राजनीतिक रंग देने की ईरानी साजिशें निंदनीय: जीसीसी

हज को राजनीतिक रंग देने की ईरानी साजिशें निंदनीय: जीसीसी

रियाद, तीव्र शब्दों में निंदा करते हुए तेहरान नीति को सऊदी अरब के अपमान के बराबर बताया अल अरबिया डॉट नेट के अनुसार खलीज सहयोग परिषद के महासचिव डॉ। अब्दुल लतीफ अज्ज़ियानी ने अपने एक बयान में स्पष्ट किया है कि ईरान के हज को राजनीतिक रंग देने के नकारात्मक व्यवहार से तेहरान की बद नियति ज़ाहिर होती है। ईरान हज को राजनीतिक रंग देकर ईरान के हाजियों के समाधान के बाधाओं को दूर करने के रास्ते में खुद ही मुश्किलें खड़ी कर रहा है।

उन्होंने ईरानी अधिकारियों से मांग की कि वह होश में आयें  और हज जैसे पवित्र इबादत को राजनीतिक रंग देने के बजाय धार्मिक भावना को बरकरार बनाए रखने में सहायता करे। डॉक्टर अल जियानी का कहना था कि हज सभी मुसलमानों और मुस्लिम देशों के लिए समान है। हज को द्विपक्षीय मतभेदों की भेंट चढ़ाने का कोई मतलब नहीं है।

यह बात बिल्कुल अनुचित है कि कोई देश राजनीतिक मतभेद के आधार पर हज अदा करने के रास्ते में रुकावटें पैदा करे। ईरानी सरकार के वरिष्ठ अधिकारियों के सऊदी अरब के खिलाफ अपमानजनक बयान ग़ैर जिम्मेदाराना ही नहीं बल्कि हज की धार्मिक स्थिति विवादास्पद बनाने की नापाक कोशिश है। इस तरह के बयानों से सऊदी अरब और ईरान के बीच संबंध और प्रभावित हुंगे और हज अदा करने के रास्ते में भी बाधित होगी.

रियाद सहयोग परिषद के महासचिव ने सऊदी सरकार विशेषकर शेख हरमैन शरिफैन शाह सलमान बिन अब्दुल अजीज से हाजियों को सुविधाएं प्रदान करने पर उन्हें श्रद्धांजलि पेश किया और कहा कि सऊदी सरकार हज और उमरा की अपनी जिम्मेदारियों से अनुकूलित तरीके से प्रतिबद्ध है, पाकिस्तान विद्वान परिषद के अध्यक्ष डॉ ताहिर महमूद अशरफ ने सऊदी सरकार से हाजियों के आगंतुकों को अच्छी सुविधाएं और सेवाएं प्रदान करने के प्रयासों को सराहा है.

लाहोर से जारी एक बयान में उन्होंने ईरानी हज प्रतिनिधिमंडल की ओर से इस साल हज के लिए द्विपक्षीय समझौते पर हस्ताक्षर से पहले आयद शर्तों को खारिज कर दिया। ताहिर अशरफ़ का कहना था कि “हज भुगतान सभी मुसलमानों का धार्मिक कर्तव्य है और सभी का व्यवस्था पूरा करना सऊदी के जिम्मे है। इसीलिए मुस्लिम इस मामले में किसी भी हस्तक्षेप को खारिज करती है।”

TOPPOPULARRECENT