Wednesday , October 18 2017
Home / India / हमारी भूक हड़ताल हुकूमत केलिए मुश्किलात पैदा करेगी

हमारी भूक हड़ताल हुकूमत केलिए मुश्किलात पैदा करेगी

हड़ताली अरकान की ज़बरदस्ती दवाख़ाना मुंतक़ली पर अन्ना हज़ारे का इंतिबाह(चेतावनी) । कजरीवाल और गोपाल राय की सेहत बिगड़ रही है

हड़ताली अरकान की ज़बरदस्ती दवाख़ाना मुंतक़ली पर अन्ना हज़ारे का इंतिबाह(चेतावनी) । कजरीवाल और गोपाल राय की सेहत बिगड़ रही है
अन्ना हज़ारे ने अपने साथीयों की बिगड़ती सेहत पर आज हुकूमत को ख़बरदार किया कि अगर भूक हड़ताली कारकुनों को जंतर मंत‌र पर उन के एहितजाजी मुक़ाम से ज़बरदस्ती हटा दिया गया तो वो इस के साथ मुज़ाकरात(आपस मे बातचीत‌) नहीं करेंगे। अन्ना हज़ारे और अरविंद कजरीवाल ने कहाकि उन्हें कारकुनों को दवाख़ाना मुंतक़िल करने के अमल में साज़िश नज़र आरही है।

एक मज़बूत लोक पाल बिल लाने के लिए एहतिजाज जारी है इस को ज़बरदस्ती ख़तम‌ कराने की कोशिश हुकूमत के लिए ठीक नहीं होगी। कजरीवाल जिन की सेहत बिगड़ रही है गुज़िश्ता 8 दिन से अपने दूसरे साथी गोपाल राय के हमराह(साथ‌) भूक हड़ताल पर हैं। गोपाल राय की भी हालत अबतर(ठीक नही) है।

उन्हों ने कहाकि अगर कारकुनों को ज़बरदस्ती दवाख़ाना मुंतक़िल किया जा रहा है तो वो इस के ख़िलाफ़ एहतेजाज करेंगे। इन की हड़ताल को ख़तम‌ करने बातचीत के लिए हुकूमत की जानिब से कोई दिलचस्पी ज़ाहिर ना करने के साथ फ़िक्रमंद अन्ना हज़ारे टीम ने आज सुबह आपस में तबादला-ए-ख़्याल किया।

अरकान ने इस बात पर ग़ौर किया कि अगर हुकूमत का रवैय्या ग़ैर मुवाफ़िक़ रहे तो एहतेजाजी अरकान को अपना मौक़िफ़ सख़्त करदेना चाहीए या नहीं। अन्ना हज़ारे टीम ने कजरीवाल और गोपाल राय से दरख़ास्त की कि वो अपनी भूक हड़ताल ख़तम‌ करदें और दूसरे अरकान को ये एहतेजाज आगे ले जाने की इजाज़त दें लेकिन इन कारकुनों ने ऐसा करने से इनकार करदिया।

अन्ना हज़ारे टीम के एक रुकन ने कहाकि उन्हों ने दोनों अरकान कजरीवाल और गोपाल राय से दरख़ास्त की है लेकिन उन्हों ने अपने मौक़िफ़ में कोई नरमी नहीं दिखाई और कहाकि वो अपना एहतेजाज जारी रखेंगे। इस इजलास(मिटिंग‌) में ये भी कहा गया कि अन्ना हज़ारे टीम के दीगर अरकान को कजरीवाल और राय की जगह भूक हड़ताल बैठना चाहीए।

इजलास(मिटिंग‌) के बाद अन्ना हज़ारे ने अख़बारी नुमाइंदों से कहाकि वो एक मज़बूत लोक पाल बिल की मंज़ूरी तक अपनी भूक हड़ताल ख़तम‌ नहीं करेंगे। जब कोई शख़्स मुश्किलात में फंस जाता है तो वो ख़ुदकुशी करता है लेकिन अरविंद के लिए किया मुश्किल है वो तो मुल्क के लिए लड़ रहे हैं। और ये लड़ाई हुकूमत के लिए मुश्किलात पैदा करेगी और उन्हें दवाख़ाना को ले जाने की कोशिश एक साज़िश है लेकिन हम ऐसा होने नहीं देंगे। अगर हुकूमत ने ज़बरदस्ती उन्हें हटा दिया तो मैं हुकूमत के किसी भी नुमाइंदा से बात नहीं करूंगा।

अन्ना हज़ारे ने ये बात बताई। कजरीवाल ने कहाकि उन्हें हुकूमत पर कोई भरोसा नहीं है और ना सरकारी डॉक्टर्स पर वो भरोसा करसकते हैं।

TOPPOPULARRECENT