Friday , August 18 2017
Home / Delhi News / हम सरेंडर नहीं करेंगे,पुलिस आ कर हमें गिरफ्तार करे : उमर खालिद और साथी

हम सरेंडर नहीं करेंगे,पुलिस आ कर हमें गिरफ्तार करे : उमर खालिद और साथी

नई दिल्ली : जवाहर लाल नेहरू युनिवेर्सिटी में मुल्क मुखालिफ नारे लगाने का खास मुजरिम उमर खालिद अपने बाकी चार साथियों के साथ देर रात कैंपस पहुंच गया। खालिद के साथ युनिवेर्सिटी के सैकड़ों स्टूडेंट्स  मीटिंग कर रहे हैं। खबर मिलने पर पुलिस भी जेएनयू पहुंच गई लेकिन उसे अंदर नहीं जाने दिया गया। खालिद के साथ मुजरिम स्टूडेंट्स अनिर्बान, अशुतोष, रामा नागा और अनंत भी मौजूद हैं।

उमर खालिद ने स्टूडेंट्स की मौजूदगी में तक़रीर भी किया । यहां खालिद ने 15 मिनट लंबा ख़िताब कीया। उमर खालिद ने कहा कि अगर मैंने कुछ गलत किया है तो पुलिस आए और मुझे ले जाए। उसने कहा कि मैने भारत मुखालिफ और पाक हिमायती नारे नहीं लगाए। मेरा मीडिया ट्रायल हो रहा है।

जेएनयू के टीचर्स एसोसिएशन JNUTA ने तीन मांगें रखी हैं। 1. पुलिस को जेएनयू कैंपस में घुसने की इजाजत न हो। 2. तालिबों से देशद्रोह और मुजरिमाना साजिश का इलज़ाम हटाया जाए। 3. जेएनयू में बनी कमेटी दुबारा तशकील हो। इस कमेटी के सामने स्टूडेंट्स की पेशी हो न कि गन प्वाइंट पर।

सरेंडर और गिरफ्तारी के बीच उमर खालिद और उसके साथी कुछ देर में जेएनयू के वीसी से मुलाकात करेंगे। उधर, पुलिस अब तक इनके बाहर आकर सरेंडर करने का इंतजार कर रही है। लेकिन स्टूडेंट्स ने इससे इनकार करते हुए कहा है कि उन्हें अंदर आकर पुलिस गिरफ्तार करे।

पुलिस कमिश्नर बीएस बस्सी ने कहा कि मुजरिम स्टूडेंट्स कानून अपने हाथ में ना लें और अपनी बेगुनाही साबित करें। मुजरिमों को पुलिस की मदद करनी चाहिए। अगर मदद नहीं किया तो पुलिस को दूसरे तरीके  अपनाने होंगे। वहीं एक स्टूडेंट् रामा नागा ने कहाकि उस दिन नारेबाजी हुई थी, लेकिन हममें से किसी ने नारे नहीं लगाए, वो बाहर के स्टूडेंट थे। हमने मना भी किया। हम लोग यही जेएनयू के आस पास ही थे। हम कहीं नहीं भागे थे, माहौल खराब था इसलिए सामने नहीं आ रहे थे। अगर पुलिस हमें अरेस्ट करेगी तो हम कोई मुजाहमत नहीं करेंगे।

गौर तलब है कि खालिद के वकील ने कहा है कि उसे सरेंडर नहीं करना चाहिए सरेंडर करने से उसका केस कमज़ोर हो जायेगा इसलिए उसने पुलिस से अरेस्ट करने की मांग की है.

TOPPOPULARRECENT