Sunday , October 22 2017
Home / Khaas Khabar / हम हिंदुस्तान के गुलाम नहीं , कश्मीर पर हमारा आईनी हक

हम हिंदुस्तान के गुलाम नहीं , कश्मीर पर हमारा आईनी हक

25 अगस्त को होने वाली सेक्रेटरी खारेज़ा सतह ( Foreign Secretary level) की बातचीत को रद्द करने के हिंदुस्तान के फैसले से खफा पाकिस्तान के वज़ारत ए खारेज़ा की तरजुमान तस्नीम असलम ने कहा कि वह (पाकिस्तान) हिंदुस्तान का गुलाम नहीं है, जो उसकी हर हुक्म पर अम

25 अगस्त को होने वाली सेक्रेटरी खारेज़ा सतह ( Foreign Secretary level) की बातचीत को रद्द करने के हिंदुस्तान के फैसले से खफा पाकिस्तान के वज़ारत ए खारेज़ा की तरजुमान तस्नीम असलम ने कहा कि वह (पाकिस्तान) हिंदुस्तान का गुलाम नहीं है, जो उसकी हर हुक्म पर अमल करे। इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि कश्मीर हिंदुस्तान का हिस्सा नहीं है। असलम ने कहा कि पाकिस्तान हिंदुस्तान का फर्माबरदार नहीं है और वह कश्मीर का कानूनी तौर से दावेदार है।

उन्होंने कहा कि हाइ कमिश्नर अब्दुल बासित हिंदुस्तान अंदरूनी मामलों में दख्लअंदाजी नहीं करते, यह हिंदुस्तान का बहाना है। ऐसा पहली बार नहीं है कि हुर्रियत कांफ्रेंस के लीडर के साथ मुलाकात की जा रही है। यह कई दहों से हो रहा है। हिंदुस्तान की सेक्रेटरी खारेज़ा सुजाता सिंह ने बासित से गुजारिश किया था कि वह नई दिल्ली में कश्मीर के अलगाववादी लीडरो से बात चीत न करें।

उन्होंने बासित को आप्शन दिया था कि वह या तो हिंदुस्तान के साथ बातचीत करें या अलहैदगी पसंद (अलगाववादी) लीडरों के साथ। सुजाता सिंह के इस कदम पर असलम ने तब्सिरा करते हुए कहा कि पाकिस्तान हिंदुस्तान का पिछलग्गू नहीं है। पाकिस्तान एक खुदमुख्तार मुल्क है और कश्मीर का कानूनी दावेदार है।

TOPPOPULARRECENT