Sunday , August 20 2017
Home / Bihar News / हाइकोर्ट की हिदायत, ट्रेन वक़्त से चलाएं या बंद कर दें

हाइकोर्ट की हिदायत, ट्रेन वक़्त से चलाएं या बंद कर दें

पटना : पटना हाइकोर्ट ने रियासती हुकूमत और रेलवे को पटना घाट से दीघा तक चलनेवाली सवारी गाड़ी की वजह से आम लोगों के जाम में फंसने पर कड़ी फटकार लगायी है। अदालत ने एक हफ्ताह के अंदर वकील रामबालक महतो और रेलवे के वकील को यह बताने को कहा कि जब इस ट्रेन को वक़्त से नहीं चला सकते तो, क्यों नहीं इसें बंद कर देते।

ट्रेन के चलने की वजह से बेली रोड पर हड़ताली मोड़ के पास सड़क बंद कर देने से 19 मिनट तक हाइकोर्ट के जज डाॅ रवि रंजन की गाड़ी फंसी रही। कोर्ट पहुचने पर उन्होंने फौरन वकील रामबालक महतो को तलब किया। रामबालक महतो के साथ रेलवे के वकील भी अदालत पहुंचे। जस्टिस डाॅ रवि रंजन ने वकीलों से कहा कि इस ट्रेन के हड़ताली मोड़ क्राॅस करने का वक़्त सुबह सवा आठ बजे है। लेकिन यह ट्रेन मंगल को 10 बजे के बाद पहुंची। ऐसा अक्सर होता है। जस्टिस ने यह भी कहा कि ट्रेन देर से पहुंची और फाटक बंद कर दिया गया।

मैं खुद 19 मिनट तक फंसा रहा और इस वजह से कोर्ट देर से पहुंचा। मैंने खुद देखा कि ट्रेन में सिर्फ दो मुसाफिर बैठे हुए थे। अदालत ने वकील के सामने सवाल खड़ा किया कि आखिर पिक आवर में इस ट्रेन को चलाने का क्या फायदा है? यह वक़्त आम लोगों के दफ्तर पहुंचने का या जरूरी काम का होता है। ट्रेन अक्सर ताखीर से चलती है और फाटक बंद होने से जाम की हालत बनती है। अगर हुकूमत इस ट्रेन को चलाना चाहती है, तो तय वक़्त पर चलाये। गौरतलब है कि पटना-दीघा रेल रास्ते पर सुबह और शाम दो बार सवारी ट्रेन गुजरती है। यह रेल रास्ता शहर के बीचोबीच से गुजरती है। दोनों ही वक़्त बेली रोड और इससे जुड़ी सड़कों पर भारी ट्रैफिक होता है।

 

TOPPOPULARRECENT