Sunday , October 22 2017
Home / Khaas Khabar / हाथी की सवारी के लिये बेकरार शाही इमाम अहमद बुखारी

हाथी की सवारी के लिये बेकरार शाही इमाम अहमद बुखारी

दिल्ली की जामा मस्जिद के शाही इमाम अहमद बुखारी अब बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) से नजदीकी बढ़ाने की कोशिश कर रहे हैं | इमाम की तरफ से कई लोगों ने लखनऊ जाकर बसपा के जनरल सेक्रेटरी नसीमुद्दीन सिद्दीकी से मुलाकात की है | मुलाकात करने वालो

दिल्ली की जामा मस्जिद के शाही इमाम अहमद बुखारी अब बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) से नजदीकी बढ़ाने की कोशिश कर रहे हैं | इमाम की तरफ से कई लोगों ने लखनऊ जाकर बसपा के जनरल सेक्रेटरी नसीमुद्दीन सिद्दीकी से मुलाकात की है | मुलाकात करने वालों में इमाम के भाई तारिक बुखारी भी शामिल थे |

ये पहला मौका नहीं है जब इलेक्शन से पहले इमाम बुखारी किसी सियासी पार्टी की तरफ झुक रहे हैं | इससे पहले अलग-अलग वक्त में वे बीजेपी, कांग्रेस और समाजवादी पार्टी के हमकदम हो चुके हैं |

नसीमुद्दीन सिद्दीकी ने इस मुलाकात की तस्दीक की है | उन्होंने कहा कि बुखारी साहब ज़्यादा दिनों से पार्टी के राबिते में हैं | यह पूछने पर कि क्या इमाम बीएसपी से जुड़ेंगे, सिद्दीकी ने कहा कि वे इस बारे में कुछ नहीं कह सकते | पार्टी की सुप्रीमो मायावती ही इस बारे में कोई फैसला लेंगी |

ज़राये की मानें तो इस सौदेबाजी में बीएसपी सख्ती से पेश आ रही है और इमाम के नुमाइंदो से कहा गया है कि बीएसपी में उनकी कोई शर्त नहीं चलेगी | अगर ताईद करना है तो असूलों की बुनियाद पर किया जाए | बीएसपी ज़राये ने दावा किया कि इमाम के इलावा मौलाना महमूद मदनी और बरेली की सुन्नी उलेमा काउंसिल के लोग भी पार्टी के राबिते में हैं |

बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने पिछले हफ्ते दिल्ली में जिस तरह बीजेपी के पीएम कैंडीडेट नरेंद्र मोदी पर तीखे हमले किए उससे साफ है कि पार्टी इस बार मुसलमानों को रिझाने में कोई कसर नहीं छोड़ेगी |

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश के पिछले असेम्बली इलेक्शन में इमाम के दामाद सपा के टिकट पर इलेक्शन हार गए थे | उधर पार्टी के कद्दावर लीडर मोहम्मद आजम खान से खराब तालुक्कात के सबब इमाम के लिए सपा के दरवाजे एक तरह से बंद ही हैं |

TOPPOPULARRECENT