Sunday , September 24 2017
Home / Khaas Khabar / हिंदुओं की शिक्षा का स्तर दुनिया में सबसे कम: रिसर्च

हिंदुओं की शिक्षा का स्तर दुनिया में सबसे कम: रिसर्च

प्यू के ताजा अध्यन यह दावा किया गया कि हाल के दशक में दुनिया के सभी धर्मिक समुदायों ने जहां काफी शैक्षणिक उपलब्धियां हासिल वहीं हिंदुओं की शिक्षा हासिल करने का स्तर सबसे कम है। बुधवार को आए इस सर्वे में बताया गया है यह विश्लेषण हिंदू वयस्कों (25 साल या उससे ऊपर) में किया गया है।

इस अध्यन में पाया गया है कि हिंदुओं की शैक्षणिक स्तर किसी दूसरे बड़े धार्मिक समूह की तुलना में काफी कम है। इसमें बताया गया है कि शिक्षा के मामले में यहूदी शीर्ष पर हैं। वहीं इसमें सामने आया है कि 41 फीसद हिंदुओं के पास बुनियादी शिक्षा नहीं है। दस लोगो में सिर्फ एक के पास माध्यमिक स्तर से ऊपर की डिग्री है। हिंदू महिलाओं में दूसरे धार्मिक समूहों की तुलना में सर्वाधिक शैक्षणिक अंतराल है।

प्यू रिसर्च सेंटर की तरफ से रिपोर्ट ‘रिलीजन एंड एजुकेशन अराउंड द वर्ल्ड एट लार्ज’ शीर्षक से जारी किया गया है। 160 पन्नों के इस रिपोर्ट में कहा गया है कि यहूदी दुनियाभर में दूसरे बड़े धार्मिक समूहों की तुलना में अत्यधिक शिक्षित हैं। जबकि मुसलमानों और हिंदुओं में औपचारिक स्कूलिंग शिक्षा कम है। इस रिपोर्ट में बयाया गया है कि अस अध्यन के लिए 151 देशों से आंकडे जुटाए गए। इस रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि दुनियाभर में मुस्लिम महिलाओं में स्कूलिंग का औसत 4.9 साल है, जबकि मुस्लिम पुरुषों में यह 6.4 साल है। वहीं, हिंदू महिलाओं में औपचारिक स्कूलिंग खासतौर पर कम है। इनकी औसत स्कूलिंग 4.2 साल है, जबकि हिंदू पुरुषों की 6.9 साल है।

प्यू के इस अध्यन के मुताबिक, भारत में हिंदुओं की स्कूलिंग का औसत 5.5 साल, जबकि नेपाल और बांग्लादेश में क्रमश: 3.9 और 4.6 साल है। जबकि अमेरिका में हिंदुओं की स्कूलिंग का औसत 15.7 साल है। हालांकि, इस रिपोर्ट में उल्लेख किया गया है कि एशिया-प्रशांत क्षेत्र में, जहां हिंदु अल्पसंख्यक हैं वहां उनका शिक्षा का स्तर बेहतर है। उदाहरण के लिए, अमेरिका में औसत हिंदुओं स्कूली शिक्षा 15.7 वर्ष है। वहीं पूरे यूरोप में हिंदूओं की शिक्षा 13.9 वर्ष है।

TOPPOPULARRECENT