Sunday , October 22 2017
Home / Business / हिंदुस्तानी वीज़े के लिए दो माह के वक़फ़े का लुज़ूम बर्ख़ास्त

हिंदुस्तानी वीज़े के लिए दो माह के वक़फ़े का लुज़ूम बर्ख़ास्त

नई दिल्ली, 05 दिसंबर: (पीटीआई) सयाहत की सनअत को राहत फ़राहम करते हुए हिंदुस्तान ने अब बेरूनी सय्याहों (पर्यटकों) के वीज़ों की इजराई के लिए क़वानीन में नरमी का ऐलान किया है और किसी भी बेरूनी सय्याह के लिए किसी एक मुक़ाम की दुबारा सयाहत के

नई दिल्ली, 05 दिसंबर: (पीटीआई) सयाहत की सनअत को राहत फ़राहम करते हुए हिंदुस्तान ने अब बेरूनी सय्याहों (पर्यटकों) के वीज़ों की इजराई के लिए क़वानीन में नरमी का ऐलान किया है और किसी भी बेरूनी सय्याह के लिए किसी एक मुक़ाम की दुबारा सयाहत के लिए दो माह के अर्सा के फ़र्क़ के लज़ूम से दस्तबरदारी इख्तेयार कर ली है।

क़ब्लअज़ीं किसी भी बेरूनी सय्याह को अगर वो फ़र्ज़ कीजिए गोवा की दुबारा सयाहत का ख़ाहां हो तो ये देखा जाता था कि आया इस ने दो माह क़बल गोवा की सयाहत की थी या नहीं? दो सयाहतों (दौरों) के दरमयान दो माह के लाज़िमी वक़फ़े का लुज़ूम था, जिसे अब बर्ख़ास्त कर दिया गया है लेकिन पाकिस्तान, चीन, ईरान, इराक़, बंगला देश, अफ़्ग़ानिस्तान, सूडान, पाकिस्तानी-ओ-बंगला देशी नज़ाद सय्याहों पर दो माह के वक़फ़े का लुज़ूम बरक़रार रहेगा।

याद रहे कि मुंबई हमलों के बाद 2009 में वक़फ़े का लुज़ूम को मुतआरिफ़ किया गया था। याद रहे कि लश्कर-ए-तयबा के दहशतगर्द डेविड हेडली के बारे में कहा गया था कि इस ने अपने मल्टीपल वीज़े का ग़लत इस्तेमाल किया था और इस तरह इस ने वक़फ़े का लुज़ूम का क़ानून ना होने का भरपूर फ़ायदा उठाया और यके बाद दीगरे हिंदूस्तान के 9 दौरे किए, जिसके दौरान इस ने 26/11 हमलों के लिए राह हमवार की।

वज़ारत-ए-दाख़िला ने इस सिलसिला में वज़ाहत की है कि हिंदुस्तान वीज़े के दरख़ास्त गुज़ार का जिसका किसी भी तरह से पाकिस्तान से कोई रब्त हो चाहे वो दो पुश्तों हॉस्टलों से पहले का राबिता हो, इसके वीज़े की इजराई के लिए मुआमला को दिल्ली के इंडियन मिशन से रुजू किया जाएगा।

TOPPOPULARRECENT