Tuesday , October 17 2017
Home / Khaas Khabar / हिंदुस्तान दहशतगर्द हेडली के लिए सजा‍-ए- मौत चाहता था

हिंदुस्तान दहशतगर्द हेडली के लिए सजा‍-ए- मौत चाहता था

26 जनवरी, नई दिल्ली: 26/11 हमले के गुनहगार दहशतगर्द डेविड कोलमैन हेडली को अमेरिकी अदालत से मिली 35 साल की सजा से हिंदुतान नाखुश है। उसने कहा है कि लश्कर‍ ए‍ तैबा के दहशतगर्द हेडली को मौत की सजा सुनाई जानी चाहिए थी। हिंदुस्तान हेडली के हव

26 जनवरी, नई दिल्ली: 26/11 हमले के गुनहगार दहशतगर्द डेविड कोलमैन हेडली को अमेरिकी अदालत से मिली 35 साल की सजा से हिंदुतान नाखुश है। उसने कहा है कि लश्कर‍ ए‍ तैबा के दहशतगर्द हेडली को मौत की सजा सुनाई जानी चाहिए थी। हिंदुस्तान हेडली के हवालगी की मांग भी अमेरिका से करता रहेगा। हालांकि अब इसकी उम्मीद बहुत ही कम है।

वज़ीर ए खारेजा सलमान खुर्शीद ने कहा कि हिंदुस्तान हेडली के हवालगी के लिए अमेरिका पर दबाव बनाता रहेगा। उन्होंने कहा कि अगर हेडली को हिंदुस्तान लाकर उस पर यहां मुकदमा चलाया जाता तो उसे कड़ी सजा मिलती।

वहीं, होम सेक्रेटरी आरके सिंह ने कहा कि हिंदुस्तान हेडली समेत मुंबई हमले के सभी मुल्ज़िमों के लिए मौत की सजा चाहता है। उन्होंने कहा कि अमेरिकी हुकूमत के पास हिंन्दुस्तान की ओर से भेजी गई अर्जी ( हवलगी की) अब भी बरकरार है। लिहाजा उम्मीद की जा सकती है कि हिंदुस्तान की अदालत में हेडली पर मुकदमा चला कर उसे फांसी तक पहुंचाया जाए।

हुकूमत भले ही हेडली के हवालगी की उम्मीद कर रही हो लेकिन इसकी उम्मीद बहुत कम मानी जा रही है। अमेरिकी हुकूमत के साथ वादा माफ गवाह बनने की हेडली की डील में यह शर्त भी थी कि उसे न तो मौत की सजा दी जाएगी और न ही हिंदुस्तान, पाकिस्तान और डेनमार्क के हवाले किया जाएगा।

मालूम हो कि इसी डील की वजह से वकील ने हेडली के लिए उम्रकैद की मांग भी नहीं कर 30 से 35 साल की सजा की ही मांग की थी। हालांकि उसे 35 साल की सजा सुनाने वाले शिकागो कोर्ट के जज ने भी कहा था कि वह मौत की सजा पाने का ही हकदार है।

अमेरिका ने हेडली के लिए कोर्ट में मौत की सजा नहीं मांगे जाने के अपने फैसले का बचाव भी किया है। दिल्ली वाकेय् अमेरिकी सफीर ने एक बयान जारी कर कहा कि हेडली ने अमेरिका, हिंदुस्तान समेत दूसरे मुल्कोकी जांच एजेंसियों के साथ मदद की खाहिश जाहिर की है, ताकि दहशतगर्दी हमलों को रोकने में मदद मिल सके।

35 साल की सजा से साफ है कि उसे सख्त सजा दी गयी । अमेरिका की वज़ारत कानून ने पहले ही उसके लिए मौत की सजा नहीं मांगने का फैसला किया था।

सलमान खुर्शीद ने कहा कि हम हेडली को दी गई कम सजा से मायूस हैं। अगर उसे हिंदुस्तान लाकर उस पर यहां मुकदमा चलाया जाता तो उसे सख्त सजा मिलती। होम सेक्रेटरी आर के सिंह ने कहा कि मुंबई हमले के सभी आरोपियों को मौत की सजा दी जानी चाहिए।

TOPPOPULARRECENT