Thursday , October 19 2017
Home / India / हिंदूस्तानी फ़िज़ाईया के सरबराह एन ए के ब्राउन दौरा इसराईल पर

हिंदूस्तानी फ़िज़ाईया के सरबराह एन ए के ब्राउन दौरा इसराईल पर

यरूशलम 21 जनवरी ( पी टी आई )हिंदूस्तान और इसराईल के दरमियान गहरे होते हुए ताल्लुक़ात के दौरान सरबराह हिंदूस्तानी फ़िज़ाईया एन ए ए के ब्राउन ने सरबराह इसराईली फ़िज़ाईया के साथ बातचीत की । वो महिकमा दिफ़ा के दीगर आली सतही ओहदेदारों से भी ज

यरूशलम 21 जनवरी ( पी टी आई )हिंदूस्तान और इसराईल के दरमियान गहरे होते हुए ताल्लुक़ात के दौरान सरबराह हिंदूस्तानी फ़िज़ाईया एन ए ए के ब्राउन ने सरबराह इसराईली फ़िज़ाईया के साथ बातचीत की । वो महिकमा दिफ़ा के दीगर आली सतही ओहदेदारों से भी जारीया बाहमी फ़ौजी तआवुन में इज़ाफे के मौज़ू पर तबादला-ए-ख़्याल करेंगे ।

महिकमा दिफ़ा के एक ज़ऱाया ने पी टी आई से कहा कि ये दोनों ममालिक की फ़ौज के मुख़्तलिफ़ शोबों के सरबराहों के एक दूसरे के ममालिक के ख़ैर सगाली दौरों के सिलसिले का एक हिस्सा है ताहम इस दौरे से एक ताक़तवर दिफ़ाई ताल्लुक़ की वज़ाहत होती है जो दोनों ममालिक के दरमियान मौजूद है और इसराईल का हिंदूस्तान के साथ तआवुन अमेरीका के बाद दूसरे मुक़ाम पर है ।

ब्राउन हिंदूस्तान के पहले दिफ़ाई अताषी बराए इसराईल थे और इन्हीं 1997 में हिंदूस्तानी सिफ़ारतख़ाने में दिफ़ाई शोबा क़ायम करने का एज़ाज़ भी हासिल है । उनके दौरे का कल आग़ाज़ हुआ जबकि तिल अबीब में इसराईली दिफ़ाई इंतेज़ामीया ने उन के एज़ाज़ में मुशतर्का गार्ड औफ़ ऑनर शहर क्रिया में पेश किया ।

ब्राउन ने अपने मेज़बान इसराईली फ़िज़ाईया के सरबराह आमिर इशिल से भी मुलाक़ात कर के जारीया बाहमी तआवुन के मौज़ू पर बातचीत की । सरबराह फ़िज़ाईया फ़िलहाल चीफ़ औफ़ स्टाफ़ कमेटी के सदर नशीन भी है । इमकान है कि वज़ीर-ए-दिफ़ा इसराईल ऐहूद बारक और इसराईली अफ़्वाज के सरबराह बीनी गानटज़ से भी अपने चार रोज़ा दौरे के मौके पर मुलाक़ात करेंगे ।

फ़िलहाल दो अहम प्रोजेक्टस जो हिंदूस्तान और इसराईल के दरमियान जारी हैं । इन में बेहतरी पैदा करने के बारे में भी बातचीत करेंगे । ये प्रोजेक्टस बगै़र पाइलेट के फ़िज़ाई गाड़ीयों का प्रोजेक्ट और फ़ौज के तीनों शोबों केलिए इन गाड़ीयों का इस्तेमाल और डी आर डी ओ और इसराईली कंपनीयों की जानिब से मुशतर्का तौर पर तैय्यार किया जाने वाला फ़िज़ाई मिज़ाईल सिस्टम हैं।

हिंदूस्तान इसराईली असलाह और आलात का सब से बड़ा ख़रीदार बन कर उभर रहा है । हिंदूस्तान को इसराईल की जुमला दिफ़ाई बरामदात मुबय्यना तौर पर 1997 के बाद 9 अरब अमेरीकी डालर मालियती होचुकी हैं । इसराईल ने हिंदूस्तान को कई दिफ़ाई आलात बिशमोल फालकन आवाक्स ( फ़िज़ाईया इंतिबाही-ओ-कंट्रोल तय्यारे ) बिशमोल रूसी इल्यूशिन 76 चार इंजनी जैट तय्यारे शामिल हैं।

हिंदूस्तानी फ़िज़ाईया के सरबराह यरूशलम में हिंदूस्तानी फ़ौजीयों की यादगार और 1953 में यहूदी क़तल-ए-आम के महलोकीन की क़ायम करदा इसराईली यादगार , हिंदूस्तानी जंगी क़ब्रिस्तान जो हिंदूस्तानी महलूक फ़ौजीयों की क़ुर्बानीयों की याद में क़ायम किया गया है जिन्होंने पहली जंग-ए-अज़ीम में 1918 में हीफ़ा को आज़ादी दिलवाने केलिए अपनी जानें क़ुर्बान करदी थीं ,के दौरा भी करेंगे ।

TOPPOPULARRECENT