Sunday , October 22 2017
Home / India / हिंदूस्तान में क़ियादत का खला नहीं, तसव्वुर ग़लत

हिंदूस्तान में क़ियादत का खला नहीं, तसव्वुर ग़लत

वज़ीर फायनेंस परनब मुकर्जी ने अमेरीकी कारपोरेट शोबा में पाए जाने वाले इस तास्सुर को मुस्तर्द कर दिया है कि नई दिल्ली में क़ियादत का खला पाया जाता है । उन्होंने कहा कि इस के बरअक्स हिंदूस्तान के वज़ीर-ए-आज़म काफ़ी ताक़तवर और तमाम उमोर स

वज़ीर फायनेंस परनब मुकर्जी ने अमेरीकी कारपोरेट शोबा में पाए जाने वाले इस तास्सुर को मुस्तर्द कर दिया है कि नई दिल्ली में क़ियादत का खला पाया जाता है । उन्होंने कहा कि इस के बरअक्स हिंदूस्तान के वज़ीर-ए-आज़म काफ़ी ताक़तवर और तमाम उमोर से मूसिर तौर पर निमटने के अहल हैं और वो काबिल‍ ए‍ कुबूल तसव्वुर किए जाते हैं ।

इसके इलावा वो मुल्क में इस्लेहात के कट्टर हामी हैं । परनब मुकर्जी ने दौरा वाशिंगटन के इख्तेताम पर कहा कि बाअज़ तंज़ीमें या इदारे इस ग़लतफ़हमी में मुबतला है कि हिंदूस्तान में इक़्तेदार का खला पाया जाता है हालाँकि सूरत-ए-हाल ऐसी नहीं है । वो सिर्फ यही कहना चाहेंगे कि मर्कज़ी हुकूमत की क़ियादत के मुआमला में ऐसा कोई खला नहीं पाया जाता ।

अमेरीकी कॉरपोरेट शोबा ने हाल ही में वाईट हाउस को मकतूब रवाना करते हुए कहा था कि हिंदूस्तान में इक़्तेदार का खुला होने की वजह फ़ैसला साज़ी का अमल सुस्त हुआ करता है । इस बारे में पूछे जाने पर परनब मुकर्जी ने कहा कि हक़ीक़त ऐसी नहीं है । उन्होंने बताया कि हिंदूस्तानी राय दहिंदगान में भी इस्लाहात के ताल्लुक़ से काफ़ी मुसबत जज़बा मौजूद है ।

जहां तक क़ौमी सतह पर इंतेख़ाबात का ताल्लुक़ है राय दहिंदगान ने इसका अमली सुबूत दिया है । उन्होंने बताया कि 2004 के लोक सभा इंतेख़ाबात में कांग्रेस पार्टी ने 147 नशिस्तों पर कामयाबी हासिल की 2009 इंतेख़ाबात में ये तादाद बढ़ कर 207 हो गई और ये भी एक हक़ीक़त है कि कांग्रेस ही ने इस्लेहात का अमल शुरू किया था ।

इस तरह ये कहा जा सकता है कि हिंदूस्तानी राय दहिंदगान में इस्लेहात के ताल्लुक़ से मुसबत रद्द-ए-अमल पाया जाता है । उन्होंने बताया कि इस्लेहात एक जारी अमल है उसे किसी मरहला पर रोका या तब्दील नहीं किया जा सकता । सबसे पहले ये मुतालिबा किया गया कि मईशत को बैरूनी सरमाया कारी के लिए खोल दिया जाए ।

जिसके बाद सरमाया कारी ख़ारिजा पालिसी ख़ारिजी तिजारती पालिसी तब्दील की गई और फिर बाद के मरहला में इन पालिसीयों में तौसीअ की गई। परनब मुकर्जी ने बताया कि उन्होंने हाल ही में इसका ऐलान किया है । उन्होंने कहा कि हुकूमत इस्लेहात के एजेंडा पर अमल पैरा है ।

इस ज़िमन में उन्होंने इंश्योरेंस तरमीमी बिल पेंशन फ़ंड रेगूलेटरी तरमीमी बिल और बैंकिंग तरमीमी बिल का तज़किरा किया जिसे बजट तक़रीर में अव्वलीन तर्जीह दी गई थी। उन्होंने कहा कि इन तरमीमी बिल्स की पार्लीमेंट के जारी सेशन में मंज़ूरी यक़ीनी बनाई जाएगी ।

TOPPOPULARRECENT