Saturday , August 19 2017
Home / Delhi / Mumbai / हिंद-पाक को खुले दिल से बातचीत‌ की जरूरत

हिंद-पाक को खुले दिल से बातचीत‌ की जरूरत

नई दिल्ली: पाकिस्तान के मौलवी ने कहा कि भारत और पाकिस्तान को खुले दिल से बातचीत करनी चाहिए अपनी 70 साल पुरानी रंजिश को पीछे डाल सभी आपसी और लम्बे समय से समस्याओं की एकाग्रता के साथ आतंकवाद के खात्मे के लिए आगे आना चाहिए। मौलवी मोहम्मद ताहिरुल क़ादरी ने जिन्होंने डेढ़ साल पहले इसलामाबाद में नवाज शरीफ सरकार के खिलाफ बड़े पैमाने पर विरोध रैलियाँ आयोजित की थीं कहा कि आतंकवाद को बढ़ावा देने के लिए एक मोर्चे के रूप में धर्म के उपयोग को बर्दाश्त नहीं किया जाना चाहिए।

दोनों देशों को आतंकवाद के अभिशाप को खत्म करने संयुक्त संघर्ष करना चाहिए। युवा मन में हिंसा की बढ़ती रोष पर गंभीर चिंता जताते हुए मौलाना ने यह भी कहा कि स्कूलों, कॉलेजों, यूनिवर्सिटीयों, मदरसों और शिक्षा खासकर धार्मिक संगठनों की ओर से चलाए जाने वाले दीनी मदारिस में हिंसा यथार्थवादी रोष को खत्म करने वाले पाठ्यक्रम सिखाने की जरूरत है।

नौजवानों को आतंकवाद और उग्रवाद की समस्या और विनाश से संबंधित शिक्षण देने की जरूरत है। भारत और पाकिस्तान के बीच बातचीत‌ के लिए  ताहिरुल‌ कादरी ने कहा कि दोनों देशों को यह तय करना होगा कि क्या वह अपनी 70 साल‌ पुरानी दुश्मनी को बनाए रखना चाहते हैं या एक दूसरे के साथ दोस्ताना और अच्छे पड़ोसी के रूप में रहना चाहते हैं।

शांति की राह को पसंद करेंगे तो आर्थिक विकास होगा जो आज की दुनिया का मुख्य मुद्दा है। आर्थिक स्तर पर हर दो देशों को विकसित करना चाहिए। 65 साला मौलवी ने कहा कि कश्मीर, मुंबई आतंकवादी हमला और पठानकोट घटना सहित सभी मुद्दों पर चर्चा की जाए। हम इन बातों में अपनी बेशुमार ऊर्जा, बजट, संसाधनों बर्बाद कर रहे हैं।

हमारे तनावपूर्ण संबंधों की वजह से समय और मन की शांति भी नष्ट हो रहा है। दोनों देशों को खुले दिल और खुले दिमाग के साथ बातचीत करनी चाहिए। धरती पाकिस्तान से आतंकवाद के बुनियादी ढांचे को बढ़ावा देने से भारत के तीव्र प्रभावित होने पर मौलाना ताहिरुल‌ कादरी ने कहा कि आतंकवाद मानवता के दुश्मन है और दोनों देशों को अपने इस साझा दुश्मन को पहचान कर यह स्वीकार करना चाहिए कि आपसी संघर्ष ही आतंकवाद का खात्मा संभव है।

आतंकवाद मानवता के असली दुश्मन है। मेरा शक्तिशाली भावना है कि अगर पाकिस्तान और भारत मिलकर इस साझा दुश्मन लड़ना तो शांति सुनिश्चित बनाया जाएगा। आप अतीत पर नजर डालें तो पता होगा कि 70 साल बीत गए और आज भी यह रुख है कि भारत अपने पड़ोसी देश पाकिस्तान को दुश्मन समझता है और पाकिस्तान भी भारत को दुश्मन ही बना हुआ है।

ऐसी सोच से ही जनता के मन में नफरत पैदा हो रही है। पृष्ठ हम ऐसी दुश्मन का सफाया करना होगा। यह स्वीकार करना होगा कि आतंकवाद हमारे आम भावना है। इसलिए यह क्षेत्र पिछड़ेपन का शिकार है।

TOPPOPULARRECENT